कड़े नियमों के साथ परीक्षाएं शुरू

  • कोरोना नियमों के पालन का निर्देश

साक्री. सूबे के शिक्षा बोर्ड द्वारा आयोजित 10वीं और 12वीं की परीक्षाएं शुक्रवार से शुरू हो गईं. बोर्ड द्वारा कोरोना प्रकोप के मद्देनजर सभी स्वास्थ्य निर्देशों का पालन करने के आदेश परीक्षा संचालकों एवं केंद्र संचालकों को दिए गए हैं. उक्त सभी निर्देशों के आधीन काम करते हुए पहले दिन परीक्षा आयोजित की गई. सभी परीक्षार्थियों ने मास्क पहन कर ही परीक्षा दी.

5 माह देर से शुरू हुई परीक्षा

बोर्ड द्वारा जुलाई में आयोजित होने वाली 10 वीं तथा 12 वीं की पूरक परीक्षा को पहले ही 5 महीने देर होने के चलते, बढ़ते कोरोना प्रकोप के दरमियान ही परीक्षा का आयोजन करना पड़ा है. किंतु बोर्ड के अधिकारियों द्वारा कोरोना प्रकोप के खिलाफ जरूरी स्वास्थ्य निर्देशों के साथ परीक्षा का इंतजाम किया गया. सबसे पहले जहां भी परीक्षा केंद्र होगा, उस स्कूल को पूरी तरह से सैनिटाइज करना, परीक्षार्थियों का थर्मल गन से शारीरिक ताप जांचना, हाथों पर सैनिटाइजर छिड़कना, एक वर्ग में 25 की जगह 12 ही बच्चों के बैठने की व्यवस्था करना जैसे एहतियाती कदम उठाए गए. बोर्ड द्वारा थर्मलगन, सैनिटाइजर, स्प्रे बोतल आदि साधन मुहैया कराए गए. इसी के चलते परीक्षा केंद्रों पर परीक्षार्थियों को उक्त सभी कसौटियों से गुजरने के बाद ही प्रवेश दिया गया. हर एक बच्चे को मास्क लगा हुआ पाने के पश्चात ही केंद्र में प्रवेश दिया गया. थर्मल गन से बॉडी टेम्परेचर की जांच की गई. हाथों तथा परीक्षा साधनों पर सैनिटाइजर छिड़का गया. बच्चों को कोरोना के संक्रमण और बचाव के निर्देश की जानकारी भी दी गई.

नियमित परीक्षा की अपेक्षा कम परीक्षार्थी

चूंकि पूरक परीक्षा जो छात्र फरवरी-मार्च की परीक्षा में सफल होने से चूक गए हैं, उनकी खातिर आयोजित की गई है. इसलिए इस परीक्षा में परीक्षार्थियों की संख्या नियमित परीक्षा की अपेक्षा काफी कम रहती है. शुक्रवार को 10 वीं और 12 वीं के लिए मराठी भाषा का पेपर था. साक्री तहसील के अंतर्गत इकलौते केंद्र न्यू इंग्लिश स्कूल में 12 बच्चों की 1 क्लास जैसे 3 वर्गों में 28 बच्चों ने परीक्षा दी. केंद्र संचालक वी.डी. देसले (10 वीं) और आर.वी.अग्रवाल (12 वीं) तथा खंड शिक्षाधिकारी सी.एस. अहिरे, सहायक किरण नान्द्रे, प्रथमेश अहिरराव, डी.पी.देवरे, आर.एस. शिंदे और डी. वी. काकड़ ने परीक्षा का संचालन किया.