महिलाओं में दिख रहे अगर ये लक्षण, हो सकती है बांझपन की वजह

    -सीमा कुमारी

    वर्तमान समय में महिलाओं में बांझपन की समस्या एक गंभीर समस्या बनती जा रही है। ऐसे में प्रजनन क्षमता की कमी होने के कारण कपल्स को कंसीव करने में दिक्कतों का सामना करना पड़ता है। एक्सपर्ट्स के मुताबिक, महिलाओं में बांझपन के कई कारण हो सकते हैं, जैसे ओव्यूलेशन डिसऑर्डर, फैलोपियन ट्यूब में क्षति, एंडोमेट्रियोसिस, यूटेरस या सर्विक्स से जुड़ी समस्याएं आदि. एक्सपर्ट कहते हैं कि अगर लक्षणों का पता लगाकर इसका समय पर इलाज कर किया जाए तो बांझपन से निजात मिल सकता है। आइए जानें उन लक्षणों के बारे में –

    एक्सपर्ट्स के मुताबिक, बांझपन होने का प्रमुख कारण अनियमित पीरियड्स का होना। अनियमित पीरियड्स की वजह सेओव्यूलेशन नियमित तौर पर नहीं हो पाता है। पॉलीसिस्टिक ओवेरियन सिंड्रोम (PCOS), मोटापा, कम वजन और थायराइड की समस्याओं सहित कई फेक्टर्स के कारण ओव्यूलेशन की अनियमितताएं हो सकती हैं। अगर समय रहते इसका इलाज कर किया जाए तो बांझपन से निजात मिल सकता है।

    कहते हैं कि, यदि आपके मासिक धर्म का रक्त सामान्य से लगातार हल्का है या शुरुआती दिनों में ही बहुत गहरे रंग का है, तो यह असामान्य संकेत है। इस बारे में भी डॉक्टर से संपर्क करके राय ले लें। मासिक धर्म में किसी भी प्रकार की असामान्यता प्रजनन स्वास्थ्य संबंधी समस्याओं की ओर इशारा हो सकती है, इसे नजरअंदाज नहीं करना चाहिए।

    विशेषज्ञों के मुताबिक मोटापे से ग्रस्त महिलाओं को गर्भधारण करने में दूसरों की तुलना में दिक्कत अधिक हो सकती है। इसके अलावा PCOS, समय से पहले रजोनिवृत्ति, कैंसर, कैंसर के उपचार, अंडाशय या फैलोपियन ट्यूब को क्षति, एंडोमेट्रियोसिस जैसी चिकित्सीय स्थितियां भी प्रजनन को प्रभावित कर सकती हैं। इन स्थितियों में डॉक्टर से सलाह जरूर ले लेना चाहिए।

    एक्सपर्ट्स बताते हैं कि, एक हेल्दी लाइफस्टाइल बांझपन की समस्या को काफी हद तक कम कर सकती है। सीमित मात्रा में कैफीन का सेवन करना, शराब और धूम्रपान से बचना। शरीर के वजन को बनाए रखना और तनाव को कम करने से काफी हद तक मदद मिल सकती है।