आज है राष्ट्रीय पुत्र दिवस, जानें क्या है इसका महत्व और इतिहास

    नई दिल्ली : जिस तरह हमारे देश में बेटी दिवस बेटियों के सम्मान में मनाया जाता है ठीक उसी तरह राष्ट्रीय पुत्र दिवस (national son day) बेटों के सम्मान में मनाया जाता है। हर साल राष्ट्रीय पुत्र दिवस यह दिन 28 सितंबर को मनाया जाता है। इस दिन बेटों को खास महसूस कराया जाता है। आईये जानते है क्या है इस दिन का महत्व और इतिहास….. 

    राष्ट्रीय पुत्र दिवस, इतिहास और महत्व 

    हर विशेष दिन के जैसे ही इस राष्ट्रीय पुत्र दिवस (national son day) का भी महत्व है। परिवार में बेटो के महत्व को समझने के लिए इसे परिभाषित करने के लिए यह राष्ट्रीय पुत्र दिवस मनाया जाता है। सबसे पहली बार यह दिन 2018 में मनाया गया था। इस राष्ट्रीय पुत्र दिवस दिन की स्थापना जिल निको ने की थी। यह विशेष दिन का एक उद्देश्य है उसके तरह इस युग में बेटो के परवरिश के महत्व को समझना है। 

    हमें यह बात कभी नहीं भूलनी चाहिए कि समाज में बेटियों के परवरिश के साथ बेटों की परवरिश भी उतनी ही जरूरी है। हर तरफ बेटिओं के प्रति जागरूकता लाने के लिए यह दिन मनाया जाता है, लेकिन शायद हम भूल गए की बेटे भी उतने ही जरूरी है। इसलिए बेटों के महत्व को समझते हुए इस दिन को मनाया जाता है।