The accused arrested in the Elgar Parishad-Maoist link case started hunger strike in jail
Representative Image

भोपाल. कोरोना महामारी (Coronavirus Epidemic) के बढ़ते संक्रमण को देखते हुए मध्यप्रदेश सरकार (Madhya Pradesh Government) ने जेल के 3900 कैदियों की पैरोल (Parole) अवधि 60 दिनों के लिये बढ़ा दी है । इससे अब इन कैदियों के नवंबर के अंत तक जेल की बैरकों में वापस आने की उम्मीद है।

एक वरिष्ठ अधिकारी ने शुक्रवार को बताया कि मार्च माह में उच्चतम न्यायालय ने जेलों में भीड़ कम करने के लिये राज्यों को उपाय करने के लिये कहा गया था। इसके बाद कैदियों को पैरोल पर जेल से छोड़ा गया था ताकि कोविड-19 के प्रसार को नियंत्रित किया जा सके।

मध्यप्रदेश में 125 जेलों में लगभग 43,000 कैदी हैं। इनमें से 3900 को पैरोल पर जबकि 3000 को अंतरिम जमानत पर रिहा किया गया है।

जेल विभाग के उप महानिरीक्षक (डीआईजी) संजय पांडे ने पीटीआई भाषा को बताया, ‘3900 कैदियों की पैरोल 60 और दिन के लिये बढ़ायी गयी है । वे सब नवंबर अंत तक 125 जेलों में वापस लौट आयेगें। जबकि 3000 अन्य कैदियों को अंतरिम जमानत पर रिहा किया गया था।”

एक अन्य जेल अधिकारी ने बताया कि प्रदेश में करीब एक हजार कैदियों को कोरोना वायरस का संक्रमण हुआ था और फिलहाल 140 कैदियों का इलाज चल रहा है। इस महामारी से अब तक किसी कैदी की मौत नहीं हुई है। उन्होंने बताया कि जिला जेल के एक अधिकारी की कोरोना महामारी से मौत हो चुकी है। (एजेंसी)