mumbai-rains

    मुंबई. एक तरफ महाराष्ट्र(Maharashtra) के मुंबई (Mumbai) में फिलहाल कुछ दिनों से भारी बारिश हो रही है। वहीं इस भारी बारिश के चलते अब मुंबई (Heavy Rainfall in Mumbai) का हाल और भी बेहाल हो गया है। शहर और निचले इलाकों में जगह-जगह पानी भर गया है। वहीं अत्याधिक बारिश के चलते मुंबई में रेल सेवा भी प्रभावित हुई है। 

    Courtsey: Paras Gupta

    Courtsey: Rishi Nikam

    मुंबई: बीते 3 दिनों में पूरे मॉनसून की 30% बारिश हुई :

    बता दें कि मुंबई में बीते रविवार को मौजूदा मॉनसून सीजन (Monsoon Season) की दूसरी सबसे ज्यादा बारिश दर्ज की जा चुकी है। जहाँ पुरे शहर में 1 जून के बाद से 1811 मि।मी बारिश दर्ज की गई है, जो कि सितंबर के आखिर तक मुंबई में होने वाली सामान्य बारिश का 85% से भी ज्यादा है। वहीं मौसम विभाग (IMD) के आंकड़ों के मुताबिक मुंबई में बीते 3 दिनों में 661।5 मि।मी बारिश हुई है, जो कि पूरे मॉनसून में होने वाली बारिश का 30% है।

    Courtsey: Somdatt Sharma

    इन राज्यों में भारी बारिश का पूर्वानुमान:

    भारत मौसम विज्ञान विभाग (IMD) ने उत्तर भारत समेत गुजरात, मध्य प्रदेश और पूर्वी राजस्थान में अलग-अलग स्थानों पर बिजली चमकने और 23 जुलाई तक भारी बारिश का अनुमान जताया है। आईएमडी ने बताया कि पश्चिमी हिमालयी क्षेत्र (जम्मू कश्मीर, लद्दाख, गिलगित, बाल्तिस्तान और मुजफ्फराबाद, हिमाचल प्रदेश और उत्तराखंड) और इससे सटे उत्तर-पश्चिम भारत-पंजाब, हरियाणा, राजस्थान, उत्तर प्रदेश और मध्य प्रदेश के उत्तरी हिस्सों में 18 से 21 जुलाई तक भारी से बहुत भारी बारिश होने का पूर्वानुमान है।

    Courtsey: Nikhil C (@imbevda)

    बता दें कि मुंबई में बीते शनिवार से रात भर हुई भारी बारिश के चलते  विभिन्न घटनाओं में 25 से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी है। इसके साथ ही आर्थिक राजधानी में मूसलाधार बारिश (Rain) के कारण जलभराव (Water logging) हुआ और यातायात (Traffic Jam) भी प्रभावित रहा।

    Courtsey:  Miten (@mitenlapsiya)

    इधर BMC ने बताया कि भारत मौसम विज्ञान विभाग (IMD) ने भारी बारिश की पृष्ठभूमि में मुंबई के लिए रेड अलर्ट जारी किया है। ‘ग्रीन’ अलर्ट का अर्थ है कि ‘कोई चेतावनी नहीं’ यानी अधिकारियों को कोई कार्रवाई करने की आवश्यकता नहीं है और यह हल्की से मध्यम बारिश का पूर्वानुमान होता है। ‘रेड’ अलर्ट ‘चेतावनी’ का संकेत है जो अधिकारियों को ‘कार्रवाई करने’ के लिए कहता है। ‘ऑरेंज’ अलर्ट बताता है कि अधिकारियों को ‘तैयार रहन’ चाहिए।