sanjay raut

    मुंबई: शिवसेना सांसद संजय राउत ने मंगलवार को कहा कि राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा) अध्यक्ष शरद पवार ने महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस को एक दिन पहले हुई बैठक में सलाह दी होगी कि ‘‘विपक्ष का अच्छा नेता” कैसे बना जा सकता है। राउत ने यहां संवाददाताओं से बातचीत के दौरान राज्य में किसी प्रकार के नए राजनीतिक गुणा-भाग की संभावनाओं को खारिज कर दिया। 

    उन्होंने कहा, ‘‘महाराष्ट्र में ‘अभियान कमल’ के बारे में भूल जाइए। ऐसा यहां नहीं होगा, ऐसा पश्चिम बंगाल में नहीं होगा। हर बैठक में राजनीतिक कोण क्यों खोजना?” महाराष्ट्र विधानसभा में विपक्ष के नेता फडणवीस ने पवार (80) से सोमवार को मुलाकात की थी और इस बैठक को ‘‘शिष्टाचार भेंट” बताया था। यह बैठक ऐसे समय में हुई है, जब भाजपा ने महाराष्ट्र में कोविड-19 हालात और मराठा आरक्षण मामले से निपटने के तरीके को लेकर शिवसेना नीत राज्य सरकार की आलोचना की है। 

    महाराष्ट्र में शिवसेना, राकांपा और कांग्रेस की सरकार है। पवार का इस साल अप्रैल में पित्ताशय का ऑपरेशन हुआ था, जिसके बाद चिकित्सकों ने उन्हें आराम करने की सलाह दी है। बैठक के बारे में पूछे जाने पर राउत ने फडणवीस पर कटाक्ष करते हुए कहा, ‘‘शरद पवार ने देवेंद्र फडणवीस को सलाह दी होगी, कि विपक्ष का अच्छा नेता कैसे बना जा सकता है। यदि वह ऐसे ही काम करना जारी रखेंगे, तो विपक्ष (भाजपा) आगामी 100 साल तक (राज्य में) सत्ता में नहीं आएगा।” 

    उन्होंने कहा, ‘‘इसमें (बैठक में) यह बात हुई होगी कि वह (विपक्ष के नेता के रूप में) किस प्रकार अपनी भूमिका निभा सकते हैं, जिससे राज्य, लोगों और देश का हित हो।” पवार और फडणवीस की बैठक का राजनीति से कोई संबंध होने के बारे में पूछे जाने पर राउत ने कहा कि भाजपा नेता ने स्वयं इस बैठक को ‘‘शिष्टाचार भेंट” कहा है। इससे पहले भी पिछले साल सितंबर में राउत और फडणवीस ने मुलाकात की थी, जिसके बाद राजनीतिक गलियारों में अटकलें लगने लगी थीं। 

    शिवसेना के मुखपत्र ‘सामना’ के कार्यकारी संपादक राउत ने तब कहा था कि यह बैठक फडणवीस के एक साक्षात्कार के संबंध में थी, जो वह लेना चाहते थे। इस बारे में मंगलवार को पूछे जाने पर राउत ने कहा, ‘‘वह उचित समय पर जल्द ही उनका (फडणवीस) का साक्षात्कार करेंगे।”(एजेंसी)