HOSBALE

    बेंगलुरू. कर्नाटक में जन्मे दत्तात्रेय होसबोले (Dattatraye-Hosbale) शनिवार को राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के ‘सरकार्यवाह’ चुने गए। अभी तक वह संघ के सह-सरकार्यवाह थे।चुनाव अखिल भारतीय प्रतिनिधि सभा (एबीपीएस) की दो दिवसीय वार्षिक बैठक में हुआ जो संघ की सर्वोच्च नीति निर्णायक इकाई है। बैठक यहां शुक्रवार को शुरू हुई। आरएसएस ने ट्वीट किया, ‘‘बेंगलुरू : आरएसएस की अखिल भारतीय प्रतिनिधि सभा (एबीपीएस) ने श्री दत्तात्रेय होसबोले को सरकार्यवाह चुन लिया।”

    संघ ने ट्वीट में कहा, ‘‘वह 2009 से ही आरएसएस के सह- सरकार्यवाह थे।” होसबोले, 73 वर्षीय ‘भैयाजी’ जोशी (Bhaiya Ji Joshi) का स्थान लेंगे, जो तीन-तीन वर्षों के लिए चार बार सरकार्यवाह रहे। सरकार्यवाह पद को संघ में सरसंघचालक के बाद दूसरे नंबर का पद माना जाता है। वर्तमान में मोहन भागवत सरसंघचालक हैं।

    एबीपीएस की वार्षिक बैठक अलग-अलग स्थानों पर होती है लेकिन हर तीसरे वर्ष यह नागपुर स्थित आरएसएस के मुख्यालय में होती है जहां सरकार्यवाह का चुनाव होता है। बहरहाल, महाराष्ट्र में कोरोना वायरस के बढ़ते मामलों को देखते हुए इस वर्ष इसे बेंगलुरू स्थानांतरित कर दिया गया। 65 वर्षीय होसबोले का जन्म शिवमोगा के सोराब में हुआ था। वह अंग्रेजी साहित्य में परास्नातक हैं। 1968 में वह संघ में शामिल हुए थे। शुरू में वह अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद् (एबीवीपी) के साथ जुड़े जो आरएसएस की छात्र शाखा है।