Under ED scanner Shivsena MLA Pratap Sarnaik said- 'Battle of Delhi and Maharashtra, I will keep on fighting'

मुंबई: ईडी (ED) की जांच के दायरे में आए शिवसेना (Shivsena) एमएलए (MLA) प्रताप सरनाईक (Pratap Sarnaik) ने आखिरकार चुप्पी तोड़ी है। मामले में अपना पक्ष रखते हुए सरनाईक ने कहा है कि अगर इतिहास (History) उठाकर देखा जाए तो मुग़लों (Mughals) के दौर में दिल्ली (Delhi) और महाराष्ट्र (Maharashtra) की लड़ाई के दौरान तानाजी मालुसरे (Tanaji Malusare) शहीद हो गए थे। फिलहाल दिल्ली और महाराष्ट्र के बीच कुछ ऐसा ही हो रहा है लेकिन, “मैं शहीद नहीं होऊंगा बल्कि लड़ता रहूँगा।” 

बता दें कि एक सरकारी एजेंसी को सिक्युरिटी देनेवाली कंपनी द्वारा कतिथ रूप से हुई आर्थिक गड़बड़ी के मामले में प्रवर्तन निर्देशालय ने विधायक प्रताप सरनाईक सहित उनके बेटे विहंग सरनाईक के घर और दफ्तरों पर पिछले दिनों छापेमारी की थी। छापेमारी की बाद विहंग से ईडी ने घंटों लंबी पूछताछ की थी जिसके बाद प्रताप सरनाईक को भी समन भेजा गया था। प्रताप सरनाईक अब तक ईडी के कार्यालय में उपस्थित नहीं हुए हैं।

प्रताप सरनाईक ने सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) का दरवाज़ा खटखटाया था जहां उन्हें और उनके परिवार को राहत दी गई थी। इस मामले में सुप्रीम कोर्ट ने कहा था कि किसी के भी खिलाफ बदले की भावना से कोई कार्रवाई नहीं होनी चाहिए। कोर्ट ने प्रताप सरनाईक को राहत देते हुए कहा था कि जब उनसे पूछताछ की जाएगी तो उस समय उनके वकील की उपस्थिति में इस पूछताछ का वीडियो रिकॉर्डिंग (Video Recording) किया जाएगा। लेकिन पूछताछ के दौरान उनके वकील को किसी की कोई आवाज सुनाई नहीं देगी, बल्कि वे इस वीडियो के ज़रिए पूछताछ की प्रक्रिया को देख सकेंगे। सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि ईडी सरनाईक परिवार के सदस्यों को पूछताछ के लिए बुला सकती है लेकिन उन्हें गिरफ्तार नहीं किया जा सकता। 

– राजा मयाल