सैनिकों के बच्चों के लिए 5 प्रतिशत सीटें

  • उच्च और तकनीकी शिक्षा मंत्री की घोषणा

मुंबई. वर्तमान और पूर्व सैनिकों के लिए खुश खबर है. उच्च और तकनीकी शिक्षा का मन बना रहे सैनिकों के बच्चों के लिए अब 5 प्रतिशत सीट आरक्षित होंगी. इसी के साथ अधिकतम 5 सीटों की पिछली शर्त को रद्द किए जाने की बात उच्च और तकनीकी शिक्षा मंत्री उदय सामंत ने कही. मंत्री सामंत ने कहा कि केंद्रीयकृत प्रवेश प्रक्रिया में शामिल प्रत्येक पाठ्यक्रम के लिए 5 प्रतिशत समानांतर आरक्षण निर्धारित किया गया है और इस प्रवेश के लिए प्रत्येक संस्थान में अधिकतम 5 सीटों की मौजूदा स्थिति को वर्तमान शैक्षणिक वर्ष से समाप्त किया जा रहा है. 

इसी के साथ उन विद्यार्थियों के लिए भी एक विशेष परीक्षा आयोजित की जाएगी जिन्होंने एमएचटी-सीईटी 2020 ऑनलाइन प्रवेश परीक्षा के लिए प्रवेश पत्र डाउनलोड किया था, लेकिन कोविड -19 वायरस के प्रकोप और अत्यधिक बारिश के कारण परीक्षा के लिए उपस्थित नहीं हो सके. इसके अलावा, प्रवेश पंजीकरण की समय सीमा 26 अक्टूबर, 2020 को दोपहर 12.00 बजे तक बढ़ा दी गई है. 

परीक्षा दीवाली के पहले ली जाए

विभाग को अगले 15 दिनों में इन उम्मीदवारों की परीक्षा आयोजित करने का भी निर्देश दिया गया है.कुछ स्थानों पर विश्वविद्यालयों को ऑनलाइन परीक्षा में समस्या हुई है. इस घटना की जांच की जाएगी और संबंधित संस्थान के खिलाफ कार्रवाई भी होगी. इसके लिए एक चार सदस्यीय समिति का गठन किया गया है,जो विश्वविद्यालय 31 अक्टूबर 2020 तक परीक्षा नहीं ले पाए हैं उन्हें विश्वविद्यालय अनुदान आयोग (यूजीसी), राज्यपाल और राज्य सरकार को रिपोर्ट सौंपनी होगी. उन्होंने आगे कहा कि जिन विद्यार्थियों की परीक्षाएं शेष हैं और किसी कारणवश वे परीक्षा नहीं दे पाए हैं उनकी परीक्षा दीवाली के पहले ली जाए. कोविड -19 का उल्लेख किसी भी छात्र के प्रमाण पत्र पर नहीं किया जाएगा.