लॉकडाउन से नाराज व्यापारियों ने MBMC मुख्यालय को घेरा

    अनिल चौहान

    भायंदर. वीकेंड लॉकडाउन (Weekend Lockdown) के ऐलान के बाद मीरा-भायंदर  (Mira-Bhayander) में आवश्यक सेवाओं (Essential Services) को छोड़कर बाकी दुकानें (Shops) बंद कराने से व्यापारी भड़क गए हैं। नाराज व्यापारी मीरा-भायंदर महानगरपालिका मुख्यालय (Mira-Bhayandar Municipal Corporation Headquarters) का घेराव किया और प्रशासन के खिलाफ नारेबाजी की। उनकी मांग है कि बाकी दुकानों को भी खुली रखने की छूट दी जाए।

    मंगलवार को रोज की तरह दुकानें तो खुलीं, लेकिन पुलिस ने उन्हें बंद करा दिया। हालांकि लॉकडाउन (Lockdown) का आदेश सोमवार रात को ही पुलिस (Police) और मनपा प्रशासन की ओर से जारी कर दिया गया था। मुख्यमंत्री उध्दव ठाकरे (Chief Minister Uddhav Thackeray) ने राज्य में वीकेंड (सप्ताहांत) लॉकडाउन लगाने का एलान किया था। मगर पूरे सप्ताह दुकानें  बंद रखने आदेश से व्यापारी नाराज व गुस्से में हैं। लॉकडाउन से कंपनियों के अलावा अतिआवश्यक सेवाओं को बाहर रखा गया है।

    व्यापारियों ने उपमहापौर से मुलाकात की

    व्यापारी महेंद्र गुर्जर ने कहा कि 3-4 महीने व्यापार ठप था। किराया, लाइट बिल, टैक्स में कुछ छूट नहीं मिली। फिर लॉकडाउन लग जाने से हमें भूखों मरने का डर सताने लगा है। व्यापारी मनोज अंबावत ने कहा कि मुख्यमंत्री वीकेंड लॉकडाउन की घोषणा करते है, जबकि पूरे सप्ताह दुकानें बंद रखने का आदेश जारी किया जाता है। यह धोखा है। कपड़ा व्यापारी विपुल पारेख कहते हैं की धीरे-धीरे व्यापार ठीक-ठाक शुरु हो रहा था।अप्रैल-मई में लोग गांव जाते है। व्यापार का यह सही समय है। सरकार को कम समय के लिए ही सही,छूट देनी चाहिए थी। व्यापारियों ने उपमहापौर हसमुख गहलोत से मुलाकात कर अपनी परेशानियों से उन्हें अवगत कराया। उपमहापौर ने उनकी बात कमिश्नर के सामने रखने का वादा दिया।