पिज्जा डिलिवरी बॉय की हत्या, सभी 5 आरोपी गिरफ्तार

  • स्थानीय लोगों ने पुलिस से कड़ी कार्रवाई की मांग की

मुंबई. मुंबई के चीता कैंप इलाके में रहने वाले और पेशे से पिज्जा डिलीवरी करने वाले एक 29 वर्षीय युवक को सिर्फ इस लिए बेरहमी से मौत के घाट उतार दिया गया, क्योंकि उसने अपने पड़ोस में चल रहे नशे के व्यापार के खिलाफ आवाज़ उठाई थी. पुलिस ने हालांकि 5 लोगों के खिलाफ हत्या और इलाके में दंगा फ़ैलाने का मामला दर्ज कर सभी आरोपियों को गिरफ्तार कर अपनी  पीठ थपथपा रही है, लेकिन मृतक युवक के परिवार परिवार का आरोप है कि पुलिस अगर सही समय पर कार्रवाई करती तो वसीम आज जिंदा होता.

क्या है पूरी घटना

मृतक युवक अब्दुल रहीमान खुदाबक्ष शेख उर्फ वसीम (29) की फूफी और शिकायतकर्ता हसीना बानो इकबाल शेख (44) ने बताया कि इनके घर के बगल में कुछ अपराधी तत्व के लोग किराने की दुकान पर नशीला सामान बेचा करते थे, जिसकी वजह से दुकान के बाहर हमेशा बहुत लड़के बैठे होते थे, जो हमेशा नशे में रहते और गाली गलौज किया करते थे. इसके लिए हमने कई बार दुकान के मालिक से शिकायत की थी, जिसकी वजह से यह लोग हमेशा हमें टारगेट करते थे. दो दिन पहले इस इन लोगों ने हमारे घर में तोड़फोड़ की और विरोध करने पर वसीम पर तलवार और लोहे की रॉड से जानलेवा हमला किया और इतनी बुरी तरह उसको मारा कि हॉस्पिटल पहुंचते ही उसने दम तोड़ दिया.  

नशे के खिलाफ जनता मोर्चा

मृतक वसीम की माँ ने बताया कि वसीम पिज्जा डिलीवरी का काम करता था. हमने कई बार पुलिस में इन लोगो की शिकायत की लेकिन पुलिस ने कभी भी हमारी शिकायत पर तवज्जो नहीं दिया. अगर पुलिस ने समय रहते इन लोगो के खिलाफ कार्रवाई कर लेती तो हमारा बेटा आज जिंदा होता. स्थानीय लोगों ने ट्रॉम्बे पुलिस थाने पर एक मोर्चा निकाला गया और नशे के सौदागरों के खिलाफ कार्रवाई करने और इस षड्यंत्र में शामिल महिलाओं के खिलाफ भी मामला दर्ज करने की मांग की.

ट्रॉम्बे पुलिस थाने के वरिष्ठ पुलिस निरीक्षक सिद्धेश्वर गोवे ने बताया कि हमने मृतक की फूफी (बुवा) की शिकायत पर आरोपियों के खिलाफ मामला दर्ज कर राशीद रहीमत शेख, मो अली सय्यद अली उर्फ समीर, सलमान सैयद अली शेख, जावेद और अरबाज़ को गिरफ्तार कर लिया है. पुलिस गिरफ्तार पांचों आरोपियों को 24 नवंबर तक पुलिस हिरासत में लेकर आगे की जांच कर रही है.