Shiv Sena
Representational Pic

मुंबई. मुंबई महानगरपालिका में बीएमसी कमिश्नर इकबाल सिंह चहल के अहंकार भरे उत्तर को लेकर सत्तधारी शिवसेना और चहल के बीच ठन गई है. बीएमसी में शिवसेना नेताओं ने आरोप लगाया है कि बीएमसी कमिश्नर, महापौर, सदन के नेता और शिवसेना नगरसेवकों का सम्मान करें. यदि उनको ऐसा नहीं करना ठीक नहीं लगता है तो राज्य सरकार के पास चले जाएं. महापौर किशोरी पेडणेकर ने कहा कि वे मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे के पास कमिश्नर की शिकायत करेंगी. 

आज हुए प्रभाग समितियों के चुनाव में महापौर सदन नेता और नगरसेवक सुबह ही पहुंच गए थे, लेकिन बीएमसी के अधिकारी अनुपस्थित रहने को मुद्दा बनाकर महापौर, नगरसेवकों के साथ जमीन पर ही धरने पर बैठ गईं थीं. 

शिवसेना के नगरसेवकों ने धरना प्रदर्शन किया

जी/दक्षिण प्रभाग समिती अध्यक्ष पद के चुनाव में उपायुक्त और सहायक मनपा आयुक्त समय पर नहीं पहुंचे. महापौर ने आरोप लगाया कि चुनाव की जानकारी होते हुए भी जोन-2 के उपायुक्त के नहीं आने का निषेध व्यक्त किया. जी दक्षिण विभाग के सहायक मनपा आयुक्त शरद उघडे को सबक सिखाने के लिए शिवसेना के नगरसेवकों ने धरना प्रदर्शन किया. शिवसेना नगरसेवक शरद उघडे से नाराज बताये जा रहे हैं. उघडे के बारे में कहा जाता है कि वे स्थानीय विधायक और पर्यावरण मंत्री आदित्य ठाकरे के अलावा नगरसेवकों को भाव नहीं देते हैं. आज  उनके अनुपस्थित रहने पर नगरसेवकों को मौका मिल गया और सभी ने  उघडे के खिलाफ मोर्चा खोल दिया. 

जी/ दक्षिण प्रभाग समिती में शिवसेना का दबदबा

जी/ दक्षिण प्रभाग समिती में शिवसेना का दबदबा है. सिर्फ शिवसेना के दत्त नरवणकर ही अकेले उम्मीदवार हैं. इसलिए चुनाव निर्विरोध संपन्न हुआ, लेकिन चुनावी प्रक्रिया की औपचारिकता निभाने के लिए उपायुक्त और सहायक आयुक्त मौजूद नहीं थे. बीएमसी अधिकारी की गैरमौजूदगी में पीठासीन अधिकारी होने के नाते महापौर ने चुनाव प्रक्रिया शुरु की. शिवसेना नगरसेवकों ने सभी दरवाजे भीतर से बंद कर लिए थे. हालांकि उससे पहले शरद उघडे वहां पहुंच गए थे, लेकिन पीठासीन अधिकारी के बगल में न बैठकर सदस्यों के बगल में जाकर बैठ गए. जी उत्तर विभाग  में प्रभाग समिति अध्यक्ष के चुनाव के समय उपायुक्त देविदास क्षीरसागर की उपस्थित में चुनाव संपन्न हुआ.