Amid rising corona cases in Mumbai, BMC said - City mortality rate of 0.03 percent
File

    मुंबई. मुंबई (Mumbai) में बढ़ रहे कोरोना (Corona) को रोकने के लिए तेजी से कोरोना जांच (Test) कर कोरोना संक्रमित मरीजों (Corona Infected Patients) और उनके निकट संपर्क वालों को क्वारंटाइन (Quarantine) करने की जरुरत है। इसके लिए बीएमसी (BMC) प्रतिदिन 40 हजार जांच करने का टार्गेट निर्धारित कर काम कर रही है। बीएमसी कमिश्नर इकबाल सिंह चहल (BMC Commissioner Iqbal Singh Chahal) ने मुंबईकरों से अपील की है कि वे जांच के लिए आगे आएं, जिससे कोरोना की चेन को तोड़ा जा सके।

     बीएमसी कमिश्नर ने कहा कि फरवरी मध्य से शुरू हुई कोरोना की दूसरी लहर में मरीजों की संख्या तेजी से बढ़ने लगी थी। फरवरी-मार्च के दौरान लगभग 24,500 परीक्षण किए जा रहे थे। दूसरी लहर के कारण जांच को बढ़ा कर दोगुना कर दिया गया। 21 अप्रैल को सबसे ज्यादा 56 हजार जांच की गई। यानी कि औसतन 44 हजार जांच रोज की गई। पिछले कुछ दिनों से 50 हजार जांच होनी चाहिए थी जो कम होकर 38 हजार पर आ गई। शनिवार, रविवार छुट्टी होने से जांच का आंकड़ा कम होकर 28 हजार पर आ गया। उन्होंने कहा कि लोग जांच के लिए आगे आएं, जिससे जांच के टार्गेट को पूरा किया जा सके।   

    मुंबई में 55 लाख जांच

    पिछले वर्ष मार्च में कोरोना का प्रसार होने के बाद मुंबई के कस्तूरबा अस्पताल और पुणे लैब में जांच हो रही थी। राज्य सरकार ने कई जांच सेंटर खोला, जिसके बाद अब एक दिन में हजारों जांच की जा रही है। पिछले एक साल में 2 मई तक 54 लाख 90 हजार 241 जांच की गई है। जांच के दौरान पॉजिटिव पाए जाने वाले मरीजों का बीएमसी उपचार कर रही है।