File Photo
File Photo

नागपुर. कोरोना को लेकर बरती गई लापरवाही अब भारी पड़ती नजर आ रही है. करीब 2 सप्ताह के बाद शुक्रवार को कोरोना से जहां 20 लोगों की मौत हुई थी. वहीं शनिवार को 16 लोगों ने जान गंवाई. तमाम तरह के प्रयासों के बाद कोरोना से मुक्ति मिलती नजर नहीं आ रही है. अब यदि सावधानी नहीं बरती गई तो अगले कुछ दिनों में स्थिति भयंकर होने की संभावना डाक्टरों ने व्यक्त की है.

कोरोना की सेकेंड वेव का असर अब दिखने लगा है. दिल्ली के बाद देश के कुछ शहरों में लॉकडाउन जैसी स्थिति बन गई है. दरअसल कोरोना का प्रभाव कम होने के बाद लोगों द्वारा बरती गई लापरवाही का ही नतीजा है कि वाइरस एक बार फिर सक्रिय होकर अटैक करने लगा है. लेकिन डाक्टरों की माने तो इस बार तीव्रता अधिक होने के साथ ही नुकसान भी ज्यादा हो सकता है. शनिवार को 16 मरीजों की मौत हो गई. इसमें सिटी में 5,ग्रामीण में 6 और अन्य जिलों के 5 मरीजों का समावेश रहा. इस तरह अब तक जिले में 3586 मरीजों की मौत हो चुकी है.

बच्चों को सावधानी जरुरी

शनिवार को 6851 लोगों की जांच की गई. इसमें 363 लोगों में संक्रमण की पुष्टि हुई है. इनमें 305 सिटी और 53 ग्रामीण भागों के लोगों का समावेश है. अब तक कुल 108363 लोग पाजिटिव हो चुके हैं. फिलहाल जिले में 3768 एक्टिव केस मौजूद है. शनिवार को 208 मरीजों को ठीक होने के बाद छुट्टी दी गई. इस तरह अब तक कुल 101009 मरीजों को छुट्टी दी जा चुकी है. इस वजह से रिकवरी रेट 93.21 फीसदी हो गई है.

डाक्टरों का कहना है कि कोरोना को लेकर अब लापरवाही खतरनाक हो सकती है. अब तक बच्चों में कोरोना का असर कम ही था, लेकिन अब जब बच्चे परिवार के साथ बाहर घुमने-फिरने जा रहे हैं तो उन पर भी असर हो सकता है. यही वजह है कि डाक्टरों ने अगले कुछ दिनों तक नियमों का सख्ती से पालन करने की आहवान किया है.