90% सीटें प्राइवेट बसों की फुल, जुलाई में बढ़ गई यात्रियों की संख्या

    नागपुर. लॉकडाउन के कारण नागपुर से अन्य जिलों और राज्यों में जाने वाली प्राइवेट बसों की सीटें लंबे समय के बाद अब भरने लगी है. इसकी 90 प्रतिशत सीटें ऑनलाइन में ही बुक हो जा रही है. वहीं बाकी टिकट ट्रैवल्स वालों के पास से ऑफलाइन बुकिंग हो रही है. कोरोना काल के समय में प्रा‍इवेट बस संचालकों के ऊपर आर्थिक बोझ इतना ज्यादा बढ़ गया था कि उन्होंने कई स्टाफ को नौकरी से भी निकाला था. लेकिन जुलाई महीने में प्राइवेट बसों की बुकिंग काफी बेहतर हो गई है.

    प्राइवेट बस संचालक अब हर रूट पर 100 प्रतिशत फुल सीटों के साथ बसें चला रहे हैं. ऑनलाइन बुकिंग में हर बस में अब खाली सीटों की समस्या आ रही है. अब तो ऐसा हो गया है बस से यात्रा करने के लिए भी एक या दो दिन पहले ही बसों की बुकिंग करानी पड़ रही है तब कहीं जाकर बसों में सीट मिल रही है. 

    बढ़ गई बसों की संख्या

    कोरोना लॉकडाउन के कारण ट्रैवल एजेंसी वालों ने बसों की संख्या काफी कम कर ली थी जो संचालक 4 बसों का संचालन करते थे वे केवल 1 ही बस चला रहे थे. केवल पुणे और हैदराबाद जाने वाली बसों में ज्यादा भीड़ होने के कारण चुनिंदा रूटों पर ही बसों का संचालन हो रहा था. लेकिन जुलाई के महीनें में प्राइवेट बस संचालकों ने बसों की संख्या भी हर रूट के लिए बढ़ा दी है. इंटर स्टेट बसों में अब बसों की बुकिंग सबसे ज्यादा बढ़ गई है. कोरोना के बाद यह स्थिति बस संचालकों के लिए काफी राहत देने वाला है. 

    मुंबई-पुणे की बसों में भीड़

    लॉकडाउन के दौर में नागपुर से पुणे जाने वाले यात्रियों की संख्या सबसे ज्यादा बसों में पुणे जाने के लिए सबसे ज्यादा 19 बसें ऑनलाइन बुकिंग के लिए मौजूद है. इन बसों में यात्रियों की संख्या भी लगभग 98 प्रतिशत से ऊपर है. वहीं नॉन स्लीपर बसों में भीड़ सबसे ज्यादा है. नॉन स्लीपर दो बसों में 100 प्रतिशत सीटें बुक है. इससे अंदाजा लगाया जा सकता है कि पुणे जाने वाले यात्रियों की संख्या अन्य यात्रियों के मुकाबले ज्यादा है.

    यात्रियों की बढ़ी है भीड़

    लॉकडाउन में यात्रियों ने यात्रा करने से पूरी तरह परहेज किया था तो वहीं लॉकडाउन खुलने के बाद अब यात्रियों की संख्या में बढ़ोतरी हो गई है. प्राइवेट बसों से दूसरे राज्यों में जाने वाले यात्री आसानी से आना-जाना कर रहे हैं. प्राइवेट बसों से यात्रा करने वाले यात्रियों को किसी भी तरह की प्रक्रिया का सामना नहीं करना पड़ रहा है. यात्रियों की संख्या काफी बढ़ गई है. दूसरे राज्यों से यहां आने वाले यात्रियों की संख्या में अभी भी कमी देखी जा रही है. 

    जानिए बसों की क्या है स्थिति 

    • नागपुर से मुंबई-11 बसें : 93% सीटें फुल.
    • नागपुर से पुणे- 21 बसें- : 98% सीटें फुल.
    • नागपुर से हैदराबाद – 11 बसें : 91% सीटें फुल.
    • नागपुर से रायपुर – 09 बसें : 90% सीटें फुल.
    • नागपुर से भोपाल – 9 बसें : 85% सीटें फुल.
    • नागपुर से इंदौर – 11 बसें : 90% सीटें फुल. 

    सभी बसों का बढ़ाया किराया

    बसों में सफर करना काफी मंहगा हो गया है. प्राइवेट बस संचालकों को यात्री नहीं मिलने से बसों का किराया बढ़ा दिया है. यात्रियों को इसके कारण आर्थिक बोझ का भी सामना करना पड़ रहा है. बस संचालकों ने बसों का किराया दोगुना तक बढ़ा दिया है. हैदराबाद, मुंबई, पुणे, रायपुर समेत अन्य जगह जाने के लिए भी किराया बढ़ाया गया है. सभी रूटों पर बसों के किराया को मनमाना बढ़ाया गया.