Hospital

  • महापौर व मनपा आयुक्त के प्रयास हुए सफल

नागपुर. शहर में कोरोना के बढ़ते प्रादुर्भाव के कारण कई लोगों को हास्पिटलों में बेड उपलब्ध नहीं हो पा रहे थे. ऐसे में महापौर संदीप जोशी और मनपा आयुक्त राधाकृष्णन बी. के प्रयासों से कोरोना मरीजों के लिए बेड उपलब्धता के अच्छी खासी बढ़ोतरी देखने को मिली है. वर्तमान स्थिति में शहर के प्राइवेट हास्पिटलों में 580 तथा शासकीय हास्पिटलों में 240 बेड्स उपलब्ध है जो कोरोना मरीजों के लिए बड़ी राहत की बात है.

ज्ञात हो कि हाईकोर्ट के निर्देश के बाद महापौर संदीप जोशी की अध्यक्षता में एक विशेष समिति की गठन किया गया था. समिति में विभागीय आयुक्त, मनपा आयुक्त, आईएमए के अध्यक्ष के अलावा प्राइवेट हास्पिटलों के प्रतिनिधि शामिल रहे. समिति के माध्यम से प्राइवेट हास्पिटलों की परेशानियां सुनी गई. साथ ही मरीजों भी बेड उपलब्ध कराये गये. बेहतर प्रबंधन के चलते अब कोरोना मरीजों को बेड की कमी से जूझना नहीं पड़ रहा.

50 टेस्टिंग सेंटर, 5000 की जांच
ज्ञात हो कि मनपा आयुक्त राधाकृष्णन बी. के मार्गदर्शन में 50 टेस्टिंग सेंटर शुरू है. जबकि प्रतिदिन 5,000 से अधिक लोगों की जांच की जा रही है. इसके अलावा 10 मोबाइल टेस्टिंग सेंटर भी चलाये जा रहे हैं. मोबाइल वैन की मदद से हाई रिस्क कान्टैक्ट, रेड लिस्ट कान्टैक्ट के अलावा घर पर ही रहने वाले मधूमेह और ब्लड प्रेशर जैसी बीमारियों से ग्रसित बुजुर्गों के कोरोना टेस्ट किये जा रहे हैं. मनपा आयुक्त राधाकृष्णन ने कहा कि पाजिटिव मरीजों के संपर्क में आये लोगों ने स्वस्फूर्त टेस्ट कराना चाहिए. किसी के घर या बिल्डिंग में कोरोना मरीज पाये जाने से परिवार सदस्यों तथा संबंधित फ्लोर के अन्य नागरिकों ने कोरेाना जांच जरूर करानी चाहिए. ऐसा ना किये जोन पर मनपा को सख्त कार्रवाई करनी होगी.

कम हुई संक्रमण की रफ्तार
मनपा आयुक्त राधाकृष्णन बी. ने कहा कि शहर में कोरोना संक्रमण की रफ्तार में कमी नजर आ रही है. पहले 21 दिनों में मरीजों की संख्या दोगुनी हो रही थी जो अब 38 दिन हो गई है. साथ ही कोरोना से दम तोड़ने वाले मरीजों की संख्या में भी कमी आई है. मनपा की ओर से कान्टैक्ट ट्रेसिंग भी की जा रही है. अब एक कोरोना पाजिटिव के संपर्क में आये 10 लोगों की कान्टैक्ट ट्रेसिंग हो रही है. जल्द ही इसके बढ़ाकर 20 लोगों तक करने का प्रयास जारी है.