पहला हाईटेक बायोडायवर्सिटी पार्क जल्द होगा तैयार, 6.5 हेक्टेयर में होगा प्लांटेशन

    – शाहनवाज आलम 

    • प्रवेश के लिए सैलानियों को लेना होगा टिकट

    नागपुर. वन ‍विभाग द्वारा बनने वाला विदर्भ का पहला नारानगर बायोडायवर्सिटी पार्क काफी हाईटेक होगा. हरियाली के लिए वन विभाग द्वारा 6.5 हेक्टेयर में प्लांटेशन किया जाएगा. पौधे लगाकर इसे एक सुंदर वन रूप में तैयार किया जाएगा. यहां वुड म्यूजियम के साथ कैफेटेरिया और बोनसाई प्लांटेशन आकर्षण का केंद्र होंगे. कोराडी रोड स्थित प्रादेशिक वन विभाग की जमीन पर बायोडायवर्सिटी पार्क का निर्माण जल्द ही शुरू होगा जो 21.75 हेक्टेयर जमीन पर होगा. इसे हाईटेक करने के लिए विभाग द्वारा और भी प्लानिंग की जा रही है.

    ये रहेगा पार्क में खास 

    •  7,000 स्क्वे. मीटर में बांबू ट्री
    •  5,500 स्क्वे. मीटर में वेट लैंड
    •  3,000 स्क्वे. मीटर में पोंड या लेक
    •  12,500 स्क्वे. मीटर में वाइल्ड फ्लावर
    •  4,500 स्क्वे. मीटर बटरफ्लाई होस्ट प्लांट्स
    •  24,500 स्क्वे. मीटर ग्रास लैंड
    •  11,000 स्क्वे. मीटर मेडिसिनल प्लांट्स

    ये सुविधाएं भी रहेंगी मौजूद

    •  टिकट काउंटर
    • – वुड म्यूजियम
    •  इंटरप्रेशन सेंटर
    •  कैफेटेरिया
    • बोनसाई प्लांटेशन
    •  एग्जॉटिक प्लांट्स

    बटर फ्लाई होस्ट प्लाटंस होगा खास

    बायोडायवर्सिटी पार्क में काफी सुंदर और आकर्षक होगा. इसकी सुंदरता बढ़ाने के लिए पार्क के अंदर 4,500 स्क्वे. मीटर में बटरफ्लाई होस्ट प्लांट्स आकर्षण का केंद्र होगा. इसके लिए बाहर से भी पौधे मंगाने की तैयारी है. प्लांटेशन में कई अगल-अलग किस्म के पौधों को भी शामिल किया जा रहा है. पूरे पार्क में सबसे बड़ा एरिया 24,500 स्क्वे. मीटर को ग्रीन लैंड बनाया जाएगा जिससे इसकी सुंदरता और भी अधिक होगी.

    औषधीय पौधों की मिलेगी जानकारी

    बायोडायवर्सिटी पार्क के अंदर जहां एक तरफ हरियाली और सुंदरता का ध्यान रखा जाएगा तो वहीं हेल्थ और फिटनेस पर भी काम किया जा रहा है. इसके लिए पार्क के अंदर में ही 11,000 स्क्वे. मीटर में मेडिसिनल प्लांट्स लगाए जाएंगे. सभी पौधों के पास पौधों के नाम और उसका किस बीमारी या तकलीफ में उपयोग होता है उसकी जानकारी भी दी जाएगी. इसका लाभ यहां आने वाले लोगों को भी मिलेगा.  

    अम्फी थिएटर में हो सकेगा मनोरंजन 

    मेडिसिनल प्लांट्स के सामने ही अम्फी थिएटर बनाया जा रहा है. इस ओपन थिएटर में छोटे-छोटे फैमिली गेम्स, इवेंट, म्यूजिक और सिंगिंग जैसे फन इवेंट किए जाएंगे. पार्क के अंदर ही लेक तैयार किया जाएगा. इस एरिया में बैठने वालों को चारों ओर सिर्फ प्रकृति की सुंदरता नजर आएगी. शहर के लोगों के साथ यह पूरे विदर्भ में एक मॉडल होगा.   

    मेडिटेशन और योगा के लिए भी पर्याप्त जगह

    वन विभाग के इस पार्क में योगा और मेडिटेशन के लिए भी काफी स्पेस रखा गया है. मेडिटेशन के लिए पार्क में वाइल्ड फ्लावर एरिया के दोनों‍ से घिरा खाली स्पेस रखा गया है तो वहीं योगा के लिए लेक और अम्फी थिएटर के सामने वाले स्पेस को रिजर्व किया गया है. इस एरिया में हेल्दी नेचर के बीच में योगा और मेडिटेशन का अलग ही खुशनुमां माहौल लोगों को मिलेगा.  

    मेन गेट के सामने ही बच्चों का प्ले ग्राउंड

    पार्क के लिए जो मैप तैयार किया गया है उसके अनुसार मुख्य द्वार के पास ही बच्चों के लिए प्ले ग्राउंड बनाया जाएगा. जहां बच्चे मस्ती कर सकेंगे. सामने ही हिरण के स्टैच्यू होंगे. इसके अलावा पार्क में वर्मी कंपोस्ट, पार्किंग, बायो टायलेट के साथ पीने के पानी की व्यवस्था होगी. इसकी फ्रंट बिल्डिंग भी जल्द तैयार की जाएगी.