sahil Sayyad

नागपुर. धोखाधड़ी और अवैध वसूली के मामलों को लेकर चर्चा में आए सफेदपोश अपराधी साहिल सैयद को 1 और मामले में बेल मिल गई है. अविनाश रारगोड़े की शिकायत पर साहिल के खिलाफ नंदनवन थाने में मामला दर्ज किया गया था. अविनाश के पिता का प्लाट रमना मारोती परिसर में था. साहिल ने उनकी जमीन के फर्जी दस्तावेज बनाकर किसी दूसरे व्यक्ति को बेच दिए थे. साहिल के काले काम सामने आने के बाद अविनाश ने भी पुलिस से शिकायत की.

पुलिस हिरासत के बाद साहिल को जेल भेज दिया गया था. बचावपक्ष के अधिवक्ता कमल सतुजा और कैलाश डोडानी ने न्यायालय में जमानत अर्जी दायर की. उन्होंने न्यायालय को बताया कि राजनीतिक मतभेदों के जरिए साहिल को गलत तरीके से मामले में फंसाया गया है. असल में इस धोखाधड़ी का मुख्य आरोपी रघुवीर शर्मा है. वह इस मामले में फरार है और पुलिस चार्जशीट फाइल कर चुकी है. सरकारी अधिवक्ता ने साहिल को मास्टर माइंड बताते हुए जमानत का विरोध किया. दोनों पक्षों की दलील सुनने के बाद न्यायालय ने साहिल को जमानत मंजूर की.