Chhagan Bhujbal

    येवला. लॉकडाउन (Lockdown) के बाद से शहरी इलाकों में मरीजों (Patients) की संख्या में कमी आ रही है, लेकिन ग्रामीण क्षेत्रों में अभी भी मरीजों की संख्या बढ़ रही है। इसलिए सभी एजेंसियों द्वारा इसे कम करने के लिए सख्त योजना (Strict Planning) बनाई जानी चाहिए, ऐसे विचार जिले के पालक मंत्री (Guardian Minister) और येवला से विधायक छगन भुजबल (Chhagan Bhujbal) ने व्यक्त किए। यहां येवला में रेस्ट हाऊस पर येवला और निफाड तहसील में कोरोना की स्थिती और उपाय योजना के साथ टीकाकरण के विषय में एक जायजा बैठक बुलाई गई थी जिसमें भुजबल अपनी बात कर रहे थे।

    इस बैठक में येवला नगराध्यक्ष बंडू क्षीरसागर, जिला परिषद सदस्य महेंद्र काले, पंचायत समिती सदस्य मोहन शेलार, प्रांताधिकारी सोपान कासार, डॉ. अर्चना पठारे, जिला स्वास्थ अधिकारी कपिल आहेर, निवासी चिकित्सा अधिकारी डॉ. प्रशांत खैरे, तहसीलदार प्रमोद हिले, तहसीलदार शरद घोरपडे, पालिका की मुख्याधिकारी संगीता नांदूरकर, येवला उपजिला अस्पताल की अधीक्षक डॉ. शैलजा कुप्पास्वामी, प्रभारी तहसील वैद्यकीय अधिकारी डॉ. शरद कातकाडे, बीडीओ डॉ. उन्मेष देशमुख, संदीप कराड, ग्रामीण पुलिस उपअधीक्षक समरसिंह सालवे, तहसील के पुलिस निरीक्षक अनिल भवारी, येवला शहर पुलिस थाना के पुलिस निरीक्षक संदीप कोली, वसंत पवार, दीपक लोणारी, ज्ञानेश्वर शेवाले, सुनील पैठणकर, मकरंद सोनवणे के साथ अधिकारी व पदाधिकारी उपस्थित थे।

    अस्पताल में ऑक्सीजन का आवश्यक भंडार रखा जाना चाहिए

    भुजबल ने कहा कि अस्पताल में ऑक्सीजन का आवश्यक भंडार रखा जाना चाहिए ताकि ऑक्सीजन की कमी न हो। कर्मचारियों को उन केंद्रों पर तुरंत उपलब्ध कराया जाए, जहां डॉक्टरों और अन्य कर्मचारियों की कमी है। बंद वेंटिलेटर तुरंत शुरू किया जाए। यदि ड्यूरा और जंबो सिलेंडरों की आवश्यकता होती है, तो उन्हें सूचित करें ताकि उपलब्ध कराया जा सके। उन्होंने शहर के हर वार्ड में नगरसेवकों और गैर सरकारी संगठनों से अपील की कि वे आगे आएं और सहयोग करें। क्वारंटाइन और आइसोलेशन को सफलतापूर्वक पूरा किया जाए,  आदेश भी भुजबल ने दिए। लॉकडाउन को सख्ती से लागू किया जाए। भुजबल ने कहा कि मरीजों की संख्या कम करने के लिए, सभी को अब अपनी जिम्मेदारी को समझते हुए अथक प्रयास करने होंगे।

    खाद और बीज का भंडार रखें

    खरीफ फसल योजना के लिए कृषि विभाग द्वारा की गई योजना की समीक्षा करके तहसील में खाद और बीजों का संग्रहण किया जाना चाहिए। पालक मंत्री ने संबंधित अधिकारियों को खरीफ सीजन की तैयारियों को पूरा करने का भी निर्देश दिया।