बिना मंजूरी स्थापित प्रतिमा को हटाया

  • प्रशासन की सतर्कता से खत्म तनाव

येवला. तहसील के राजापुर स्थित चौराहे पर अज्ञात व्यक्ति द्वारा मध्यरात्रि में छत्रपति शिवाजी महाराज की प्रतिमा स्थापित करने से तनाव का माहौल पैदा हो गया, लेकिन प्रशासकीय अधिकारियों ने ग्रामीणों से चर्चा करने के बाद मूर्ति अपने कब्जे में लिया. इस मामले में अज्ञात व्यक्ति के खिलाफ प्रकरण दर्ज किया गया है.

येवला-नांदगांव मार्ग पर स्थित राजापुर के चौराहे पर रास्ते के समीप लोहे की फ्रेम तैयार कर उस पर मध्यरात्रि में छत्रपति शिवाजी महाराज की भव्य प्रतिमा स्थापित की गई. बिना किसी मंजूरी के प्रतिमा स्थापित करने से चर्चा शुरू है. इसकी जानकारी मिलने के बाद तहसील पुलिस निरीक्षक अनिल भवारी दलबल के साथ दाखिल हुए. इसके बाद उप विभागीय पुलिस अधीक्षक समीर सिंह सालवे व तहसीलदार प्रमोद हिले ने गांव में पहुंचकर शांति बनाए रखने का आह्वान किया.

ग्रामीणों का नहीं था विरोध

ग्रामीणों का प्रतिमा को लेकर कोई विरोध नहीं था. इस दरमियान पूर्व सरपंच प्रमोद बोडके, वरिष्ठ नेता परशराम दराडे, दयानंद जाधव, लक्ष्मण घुगे, पोपट आव्हाड, समाधान चव्हाण, विट्ठल मुंडे, शरद वाघ, शंकर मगर, संजय वाघ, ग्राम विकास अधिकारी रामदास मंडलिक आदि द्वारा मध्यस्थता करने के बाद तहसीलदार प्रमोद हिले, पुलिस उपाधीक्षक सालवे ने प्रतिमा कब्जे में लेने का निर्णय किया. इस दौरान परिसर में भारी बंदोबस्त तैनात किया गया था.