पाक सुको का चढ़ा पारा इमरान सरकार निकम्मी-नाकारा

    पड़ोसी ने हमसे कहा, ‘‘निशानेबाज, पाकिस्तान (Pakistan) के सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) ने इमरान खान की सरकार (Imran Khan’s Govt) पर सख्त नाराजगी जताते हुए कहा कि वह देश चलाने और फैसले लेने में अक्षम है. इस पर आपकी क्या राय है?’’ हमने कहा, ‘‘पाकिस्तान की सभी सरकारें निकम्मी, नाकारा और अयोग्य रही है. इसलिए सिर्फ इमरान खान पर ही क्यों ठीकरा फोड़ा जाए? इन सरकारों की हालत कठपुतली जैसी रही है जिनकी डोर पाकिस्तान की फौज और खुफिया एजेंसी आईएसआई के हाथ में होती है. पाक प्रधान मंत्री उनका मोहरा बना रहता है. इमरान खान क्रिकेट कप्तान के रूप में ही ठीक थे.

    राजनीति के मैदान में पूरी तरह फिसड्डी साबित हुए.’’ पड़ोसी ने कहा, ‘‘निशानेबाज पाकिस्तान के सुप्रीम कोर्ट की नाराजगी विभिन्न कारणों से है. 2017 में हुई जनगणना के परिणाम सरकार ने अब तक जारी नहीं किए. काउंसिल आफ कामन इंट्रेस्ट (सीसीआई) जैसी संवैधानिक संस्था की बैठक स्थगित की गई. पंजाब प्रांत की सरकार ने निर्वाचन क्षेत्रों के परिसीमन पर अध्यादेश जारी किया गया. इन सारी बातों से सुप्रीम कोर्ट खफा है. पाकिस्तान के चुनाव आयोग ने भी विदेशी चंदा मामले पर इमरान खान की तहरिक-ए-इंसाफ पार्टी को नोटिस दिया है.’’ हमने कहा, ‘‘इमरान खान को अपनी तीसरी बीबी बुशरा बेगम पर बहुत भरोसा है जो ज्योतिस जानने के अलावा रहस्यमय शक्तियां रखती है.

    उन्होंने ही इमरान के पीएम बनने की भविष्यवाणी की थी. बुशरा बेगम इमरान के संकट टाल देंगी.’’ पड़ोसी ने कहा, ‘‘निशानेबाज, पाकिस्तान के शासकों के दिन जब भर जाते हैं तो कोई उन्हें बचा नहीं पाता. कश्मीर मुद्दे को लेकर उछलकूद करने और भारत विरोधी दुष्प्रचार करने के अलावा उन्हें कुछ नहीं आता. पहले अमेरिका के टुकड़ों पर पलते थे और अब चीन के सामने कटोरा लेकर खड़े हैं. पाकिस्तान में आधुनिक शिक्षा, उद्योग, रोजगार और विकास पर कोई ध्यान नहीं दिया जाता. सिर्फ आतंकवादी तैयार किए जाते हैं. पहले पाकिस्तान को अल्लाह, आर्मी और अमेरिका संभालत थे लेकिन अब अमेरिका ने आंख फेर ली हैं जबकि चीन अपना चंगुल कसता जा रहा है.’’