21 साल की उम्र में बने लेफ्टिनेंट, दादा का सपना किया सच, रचा इतिहास

पानीपत: अपने दादा और पिता का सपना पूरा करते हुए हरियाणा (Haryana) के पानीपत (Panipat) जिले के मनाना गांव (Manana Village) निवासी विशाल राठी (Vishal Rathi) ने महज 21 साल की उम्र में मराठा रेजिमेंट (Maratha Regiment) में लेफ्टिनेंट (Lieutenant) पद हासिल कर इतिहास रच दिया है। ऐसा कर विशाल आज देश के लाखों युवाओं के लिए एक आदर्श और प्रेरणास्त्रोत बन गए हैं। सिर्फ 21 की आयु में ऐसा करने वाले विशाल राठी ने, न केवल अपने गांव का नाम रोशन किया है बल्कि उन्होंने  अपने दादा और पिता (Grandfather & Father) के बरसों पुराने सपने को भी पूरा किया है। 

विशाल जब अपने गांव वापिस पहुंचे तो लोगों और परिजनों ने उनपर फूल बरसा कर, मालाएं पहनाकर भव्य स्वागत किया। लेफ्टिनेंट विशाल ने अपनी इस सफलता का पूरा श्रेय अपने पिता और दादा को दिया। विशाल ने कहा, “मेरी पढ़ाई सैनिक स्कूल में हुई और तब मेरे दादा ने मुझसे कहा था कि अब लौटकर मत आना। अपने देश की सेवा करनी है तुम्हें। आज मुझे गर्व है कि मैं अपने पिता और दादा की उम्मीदों पर खरा उतरा हूँ।”

पूरा गांव मना रहा है खुशी 

विशाल की इस इतनी बड़ी सफलता से गांव भर के लोग गर्व से फूले नहीं समा रहे हैं। विशाल की बहन कहती हैं, “मुझे मेरे भाई पर गर्व महसूस हो रहा है वो हमेशा मेरे आदर्श रहे हैं।” वहीं परिवार और ग्रामीणों में अत्यंत खुशी की लहर दौड़ गई है।

पिता भी हैं रिटायर्ड सैनिक

जहां विशाल राठी अब मराठा रेजिमेंट अपनी सेवाएं देंगे वहीं उनके पिता भी पूर्व सैनिक रह चुके हैं। उन्होंने भारतीय सेना में अपनी सेवाएं दी हैं। विशाल के पिता ने कहा, मुझे मेरे बेटे पर बहुत गर्व है।”