Bhupinder Singh Hooda and Manohar Lal Khattar

    चंडीगढ़. कांग्रेस के वरिष्ठ नेता भूपेंद्र सिंह हुड्डा ने सोमवार को हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर पर जमकर हमला बोला और अपने ऊपर लगाए जा रहे आरोपों को खारिज करते हुए कहा कि वह कोविड महामारी के दौरान कोई राजनीति नहीं कर रहे हैं। खट्टर ने कहा था कि कोविड-19 महामारी के दौरान राज्य सरकार जिस प्रकार काम कर रही है, उसमें सहयोग देने के बजाय कांग्रेस नेता का रवैया केवल आलोचनात्मक है। इसके बाद हुड्डा का यह बयान आया है।

    खट्टर ने मीडिया से बातचीत में कहा था, ‘‘मैंने सोचा कि उनका पत्र जवाब देने के लायक भी नहीं है, मैंने उसकी अनदेखी की। इसका एक कारण है, वह सहायता करने की जगह और अधिक राजनीति करना चाहते हैं।” हुड्डा ने खट्टर पर हमला बोलते हुए कहा कि यह समय राजनीति का नहीं है और उन्होंने महामारी से लड़ाई में सरकार का पूरा समर्थन करने की पेशकश की थी।

    उन्होंने संवाददाता सम्मेलन में कहा, ‘‘लेकिन विपक्ष का नेता होने के नाते जनता की समस्या को उठाना और उससे सरकार को अवगत करवाना भी मेरी जिम्मेदारी है।” कांग्रेस नेता ने कहा कि वह स्वतंत्रता सेनानी के परिवार से आते हैं और राष्ट्रहित, प्राकृतिक आपदा एवं महामारी के मामले में वह कभी राजनीति नहीं करते हैं।

     

    उन्होंने कहा, ‘‘सच्चाई यह है कि जब अनुच्छेद 370 के अधिकतर प्रावधानों को हटाने मसला उठा तो मैं समर्थन में खड़ा था जब (इस निर्णय का स्वागत करने के लिए) हरियाणा विधानसभा में एक प्रस्ताव पारित हुआ।” टीकाकरण को वायरस के खिलाफ सबसे बड़ी सुरक्षा करार देते हुए उन्होंने कहा कि प्रदेश में टीकाकरण अभियान में तेजी लायी जानी चाहिये। खट्टर को आड़े हाथों लेते हुए, उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री टीकों को नियंत्रित करने की बात कर रहे हैं।

    उन्होंने कहा, ‘‘सरकारी आंकड़े कहते हैं कि कल केवल 30 हजार खुराक दी गयीं। हिसार, नूंह, सिरसा एवं चरखी दादरी जैसे कुछ जिलों में कुछ ही खुराक दी गयीं । इस गति से राज्य के सभी पात्र लोगों को टीका लगने में कई महीने लगेंगे। इसलिए इस प्रक्रिया में तेजी लायी जानी चाहिये।” कांग्रेस नेता ने कहा कि लोगों की समस्याओं को देखकर उन्हें दुख होता है । (एजेंसी)