Nitish Kumar and Tejashwi Yadav

नबीनगर/नोखा. बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार (Nitish Kumar) ने शनिवार को विपक्ष, खास तौर पर राजद (RJD) पर निशाना साधते हुए कहा कि पहले तो वोट पाने के लिये समाज को बांटने का काम किया और अब फिर माल बनाने के लिये सत्ता चाहते हैं। मुख्यमंत्री ने राज्य को विकास के मार्ग पर अग्रसर रखने के लिये लोगों से फिर उन्हें मौका देने की अपील की। कुमार ने आरोप लगाया कि 15 साल मौका मिलने पर विपक्षी दल ने जनता की बजाए सिर्फ अपना हित साधने का काम किया।

उन्होंने औरंगाबाद के नबीनगर और रोहतास के दिनारा, कगहर और नोखा में चुनावी रैली को संबोधित करते हुए ये बातें कही। कुमार ने दावा किया कि उनकी सरकार ने महादलित व दलितों, आदिवासी, अतिपिछड़ा, अल्पसंख्यकों के लिए काम किया जबकि ये लोग (विपक्ष) वोट ले लेते थे लेकिन कोई काम नहीं करते थे। लालू प्रसाद पर परोक्ष प्रहार करते हुए बिहार के मुख्यमंत्री ने कहा कि अभी तो अंदर (जेल) ही हैं और जो काम किया है, उसके कारण ही अंदर है, बाकी और भी जाएंगे।

राज्य में पूर्ववर्ती राजद शासनकाल में कारोबारियों के पलायन का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा कि कुछ लोगों को याद नहीं है कि उनके राज में कैसे व्यापारी भाग खड़े हुए थे। कितना परेशान किया जाता था उनको। नीतीश ने कहा “जो व्यापारी ये सब झेल कर भी बिहार में डटे रहे, हमने उन्हें बुलाकर उनका सम्मान किया।”

राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन को जनादेश देने की अपील करते हुए बिहार के मुख्यमंत्री ने कहा, “अब बिहार पिछड़ा नहीं रहेगा बल्कि सक्षम, आत्मनिर्भर बनेगा और आगे बढ़ेगा।” उन्होंने राज्य को तरक्की और विकास के मार्ग पर आगे बढ़ाना जारी रखने के लिये लोगों से फिर मौका देने की अपील की।

मुख्यमंत्री ने कहा “इन लोगों को मौका मिला था, पंचायत का चुनाव तक नहीं करवाये और जब करवाये, तब किसी को आरक्षण नहीं दिया लेकिन जैसे ही हम आये हमने महिलाओं से लेकर कई वर्ग को आरक्षण दिया, उनका प्रतिनिधित्व सुनिश्चित किया।”

उन्होंने आरोप लगाया कि पहले बिहार के लोग यहां से भागते थे? लूट-पाट होती थी, सामूहिक नरसंहार होते थे और “हमने आते ही सबसे पहले कानून राज लाने का काम किया।” बिहार के मुख्यमंत्री की यह टिप्पणी ऐसे समय में आई है जब विपक्षी महागठबंधन ने शनिवार को अपना संकल्प पत्र जारी किया जिसमें 10 लाख युवाओं को रोजगार देने,पलायन रोकने, शिक्षकों को समान कार्य के लिये समान वेतन देने, छात्रों की परीक्षा के आवेदन फार्म की फीस माफ करने, कृषि संबंधी हाल में बने कानून को समाप्त करने, उद्योगों को बढ़ावा देने सहित कई वादे किये गये हैं।

कुमार ने कहा कि राज्य के साथ केंद्र सरकार ने भी कई योजनाओं के तहत मदद की है और हर वर्ग को लाभ पहुंचाया गया और सम्मान दिलवाया है। उन्होंने इस संदर्भ में आर्थिक आधार पर आरक्षण देने के कदम का भी जिक्र किया । अस्पतालों की स्थिति में सुधार करते हुए हमने इलाज का बेहतर प्रबंध किया।

शिक्षा हो, स्वास्थ्य हो, विकास का काम हो, हमने हर क्षेत्र में काम किया है, महिलाओं के कहने पर शराबबंदी की ,राज्य हर क्षेत्र में आगे बढ़ रहा है। उन्होंने कहा कि युवाओं के लिए कुशल युवा कार्यक्रम की शुरूआत की और इसमें 10 लाख युवाओं ने प्रशिक्षण लिया। कुमार ने कहा, “हमारा निश्चय है कि हर खेत तक सिंचाई का पानी पहुंचा देंगे। कहीं सूखा नहीं पड़ने देंगे। इसकी घोषणा हमने पहले ही की थी।” (एजेंसी)