बाबा वैद्यनाथ का श्रावणी मेला और कांवड़ यात्रा लगातार दूसरे वर्ष रद्द, ऑनलाइन किए जा सकें दर्शन

    रांची/देवघर: झारखंड के देवघर स्थित भगवान शिव के द्वादश ज्योतिर्लिंगों में से एक सिद्ध शिव पीठ की कांवड़ यात्रा और वहां लगने वाला श्रावणी मेला इस वर्ष भी कोरोना वायरस प्रतिबंधों के मद्देनजर रद्द कर दिया गया है और भक्तों के लिए ऑनलाइन भगवद् दर्शन की ही व्यवस्था की गयी है।   

    देवघर के उपायुक्त मंजूनाथ भजंत्री ने आज श्रावणी मेला और कांवड़ यात्रा रद्द किये जाने की घोषणा की। उन्होंने कहा कि राजकीय श्रावणी मेला के दौरान सुबह व संध्या में देवतुल्य श्रद्धालु वैद्यनाथ बाबा का ऑनलाइन दर्शन कर सकेंगे। इस बीच आज पंडा धर्मरक्षिणी सभा के अध्यक्ष, सदस्य एवं तीर्थ-पुरोहितों तथा समाज के प्रतिनिधियों ने उपायुक्त सह जिला दंडाधिकारी मंजूनाथ भजंत्री से मुलाकात कर ऑनलाइन पूजा से जुड़े बिंदुओ पर अपनी-अपनी बात रखी।   

    उपायुक्त मंजूनाथ भजंत्री ने सभी को आश्वस्त किया कि देवतुल्य श्रद्धालुओं व बाबा बैद्यनाथ के भक्तों हेतु ऑनलाइन पूजा की जगह ऑनलाइन दर्शन की व्यवस्था की जाएगी। वर्तमान में कोरोना संक्रमण की रोकथाम और श्रद्धालुओं की स्वास्थ्य सुरक्षा को देखते हए श्रावणी मेले के आयोजन को इस वर्ष स्थगित रखा गया है।   

    उन्होंने बताया कि पूजा- पाठ के निर्धारित समय व बाबाधाम में इस वर्ष श्रावणी मेला को स्थगित रखने से संबंधित सूचना का प्रचार-प्रसार वृहद् स्तर पर करने का निर्देश संबंधित अधिकारियों को दिया गया ताकि बाहर से आनेवाले लोगों को सही जानकारी के साथ घर बैठे निर्धारित समय पर टीवी या सोशल साईट के माध्यम से बाबा के दर्शन हो सके।   

    ज्ञातव्य है कि समस्त पूर्वी भारत में बाबा वैद्यनाथ धाम का सर्वाधिक महत्व है और प्रति वर्ष श्रावणी के दौरान यहां कई करोड़ भक्त कांवड़ यात्रा एवं श्रावणी मेला में शामिल होते हैं।  इससे पूर्व सर्वोच्च न्यायालय के कड़े रुख को देखते हुए उत्तर प्रदेश एवं उत्तराखंड पहले ही कांवड़ यात्रा को रद्द कर चुके हैं।(एजेंसी)