crime

    बेंगलुरु. बेंगलुरु सामूहिक दुष्कर्म (Bengaluru gang rape case) मामले की जांच कर रही पुलिस शुक्रवार को चार आरोपियों को घटनास्थल पर ले गयी, जहां से दो आरोपियों ने भागने की कोशिश की। उन्हें रोकने के लिए पुलिस को मजबूरन उनके पैर में गोली मारनी पड़ी। अधिकारियों ने इस बात की जानकारी दी।

    पुलिस सूत्रों ने बताया कि घटनास्थल से भागने की कोशिश करने वाले दोनों आरोपियों की पहचान हृदोय और सागर के रूप में की गयी है। पुलिस ने सामूहिक दुष्कर्म के इस मामले में बांग्लादेश के छह नागरिकों को गिरफ्तार किया है।

    सूत्रों के मुताबिक, पुलिस शुक्रवार को जांच के सिलसिले में अपराध वाली जगह पर चार आरोपियों को लेकर गयी। के चन्नासांद्रा इलाके में यह आरोपी किराए के घर में रहते थे। अपराध वाली जगह पर जांच के दौरान दो आरोपियों ने पुलिस पर हमला कर घटनास्थल से भागने की कोशिश की जिस पर पुलिस ने विवश होकर उन पर गोलियां चलाईं।

    सूत्रों के मुताबिक दोनों आरोपियों को पैर में गोली लगी है और एक सरकारी अस्पताल में उनका इलाज चल रहा है। गौरतलब है कि बेंगलुरु पुलिस ने बृहस्पतिवार को एक महिला को बुरी तरह पीटने और उसके साथ कथित तौर पर दुष्कर्म करने के मामले में राममूर्ति नगर इलाके में अवैध रूप से रह रहे बांग्लादेश के छह नागरिकों को गिरफ्तार किया था। इनमें चार पुरुष और दो महिलाएं शामिल हैं।

    इस मामले में पीड़ित महिला भी बांग्लादेश मूल की ही बताई जा रही है। पुलिस पीड़ित महिला को ढूंढने की कोशिश कर रही है। यह घटना किसी वित्तीय विवाद को लेकर हुई है। कर्नाटक के मुख्यमंत्री बी एस येदियुरप्पा ने इस मामले को अमानवीय कृत्य करार देते हुए कहा कि इसे किसी भी कीमत पर सहन नहीं किया जा सकता और दोषियों को कड़ी सजा दी जाएगी। (एजेंसी)