Mamata Banerjee
PTI Photo

    कोलकाता. पश्चिम बंगाल (West Bengal) की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी (CM Mamata Banerjee) ने राज्य में आठ चरण में विधानसभा चुनाव (Assembly Election) कराए जाने की घोषणा पर सवाल उठाते हुए शुक्रवार को कहा कि उन्हें संदेह है कि तारीखों की घोषणा भाजपा के चुनाव प्रचार अभियान (Election campaign) के बेहतर प्रबंधन के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) और गृहमंत्री अमित शाह (Amit Shah) के सुझावों के अनुसार की गई है। बनर्जी ने कालीघाट स्थित अपने आवास पर संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए कहा कि चुनाव आयोग को राज्य को “भगवा खेमे की आंखों से” नहीं देखना चाहिए, उनका इशारा भाजपा की ओर था।

    उन्होंने कहा, “चुनाव आयोग का पूरा सम्मान करते हुए मैं यह कहना चाहती हूं कि इस पर सवाल खड़े किये जा रहे हैं कि बंगाल में कई चरणों में चुनाव क्यों होंगे, जबकि अन्य राज्यों में एक चरण में मतदान होगा। यदि चुनाव आयोग लोगों को न्याय प्रदान नहीं करता तो लोग, कहां जाएंगे।”

    बनर्जी ने कहा कि “इन सभी चालों” के बावजूद, वह चुनाव जीतेंगी। उन्होंने कहा, “मुझे अपने सूत्रों से जानकारी मिली है कि चुनाव की तारीखें उसी अनुरूप हैं, जिस तरह से भाजपा चाहती थी। क्या प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गृह मंत्री अमित शाह के सुझावों के अनुसार तारीखों की घोषणा की गई है? प्रधानमंत्री और गृह मंत्री राज्य के चुनाव के लिए अपनी शक्ति का दुरुपयोग नहीं कर सकते हैं।”

    बनर्जी ने अपनी पार्टी तृणमूल कांग्रेस के चुनाव जीतने के बारे में विश्वास व्यक्त करते हुए कहा कि वह राज्य की बेटी हैं और बंगाल को भाजपा से बेहतर जानती हैं।

    कब होगा पश्चिम बंगाल में चुनाव?

    पश्चिम बंगाल में 8 चरणों में चुनाव होनेवाले है। जिसमें 27 मार्च को पहले चरण में वोटिंग होगी। जबकि दूसरे चरण में 1 अप्रैल, तीसरे चरण में 6 अप्रैल, चौथे चरण में 10 अप्रैल, पांचवे चरण में 17 अप्रैल, छठे चरण में 22 अप्रैल, सातवें चरण में 26 अप्रैल और आठवें चरण में 29 अप्रैल को वोटिंग होगी।

    पश्चिम बंगाल पर टिकी हैं सबकी नजरें

    इस बार के विधानसभा चुनाव में सभी की नजरें पश्चिम बंगाल पर टिकी हैं। जहां पर टीएमसी की सरकार को उखाड़ फेंकने के लिए बीजेपी ने अपनी पूरी ताकत झोंक दी है। इस बार का चुनाव को जीतने के लिए बीजेपी मैदान में मिशन 200 लेकर उतरी है। मतलब उन्हें उम्मीद है कि बीजेपी को इस बार 200 सीटें मिलने की उम्मीद है। वहीं, ममता बनर्जी किसी भी हाल में कुर्सी छोड़ने वाली नहीं है और उन्होंने जीत की हुंकार भर अपनी पार्टी के जीत के लिए पूरी ताकत झोंक दी है।

    क्या कहतें हैं बंगाल के आंकड़े?

    पश्चिम बंगाल विधानसभा में कुल 294 सीटें है। साल 2016 के विधानसभा चुनाव में टीएमसी ने 293 सीटों पर मैदान में उतरी थी। जिसमें से उसने 211 सीटें जीती थी। जबकि बीजेपी को इस चुनाव में करारी हार का मुंह देखना पड़ा था। पिछले चुनाव में बीजेपी और गोरखा जनमुक्ति मोर्चा ने मिलकर चुनाव लड़ा था। जिसमें बीजेपी को सिर्फ तीन सीटें मिली थी।