भाजपा की रैली में कार्यकर्ताओं और पुलिस की झड़प, एक की मौत

सिलीगुड़ी: पश्चिम बंगाल (West Bengal) में जैसे जैसे विधानसभा चुनाव (Assembly election) के दिन नज़दीक आ रहे हैं, वैसे वैसे राजनीतिक पार और गरम होता जा रहा है. सोमवार को सिलिगुड़ी के तिनबत्ती में भारतीय जनता युवा मोर्चा (Bhartiya Janta Yuva Morcha) द्वारा आयोजित रैली में कार्यकर्ताओं और बंगाल पुलिस के बीच झड़प हो गई. इस दौरान पुलिस ने भीड़ को तितर-बितर करने के लिए वॉटर कैनन और आँसू गैस के गोले छोड़े. जिसमें एक कार्यकर्ता की मौत हो गई.

प्रजातंत्र नहीं, गुंडों का राज

भाजपा कार्यकर्ताओं के ऊपर हुए इस लाठी चार्ज और आंसू गैस के गोले फेकने पर पार्टी महासचिव और बंगाल प्रभारी कैलाश विजयवर्गीय ने कहा, “यहां जिस प्रकार की अराजकता है, राष्ट्रपति शासन लगाना जरूरी है. यहां प्रजातंत्र नहीं, गुंडों का राज है.”

सूर्य ने लगाया पुलिस पर हत्या का आरोप 

सांसद और भाजपा युवा मोर्चा के राष्ट्रीय अध्यक्ष तेजस्वी सूर्या ने कहा, “पश्चिम बंगाल में लोकतंत्र की हत्या हो रही है. भाजपा के कई कार्यकर्ता शांतिपूर्ण विरोध प्रदर्शन पर किए गए हमले के दौरान घायल हो गए.” सूर्य ने पुलिस पर हत्या का आरोप लगते हुए कहा कि, “ममता पुलिस द्वारा फेंके गए बमों के कारण भाजपा के वरिष्ठ कार्यकर्ता उलन रॉय की मृत्यु हो गई.”

ज्ञात हो कि राज्य में लगातार हो रही राजनीतिक हिंसा को लेकर भाजायुमो ने राज्य के अस्थायी उत्तर बंगाल सचिवालय उत्तर कन्या तक मार्च का आयोजन किया था. करीब करीब दो बजे सिलीगुड़ी के तीन लेन चौराहे पर भाजपा युवा मोर्चा के कार्यकर्ताओं ने मोर्चाबंदी करने की कोशिश की. इसके बाद पुलिस और भाजपा कार्यकर्ताओं में झड़प हो गई. स्थिति को नियंत्रण में करने के लिए भारी पुलिस बल को बुलाया गया. इस झड़प में कई पत्रकार, भाजपा कार्यकर्ता और पुलिस के जवान घायल हो गए हैं.

भाजपा ने सौंपा राज्यपाल को ज्ञापन 

सिलीगुड़ी में हुई हिंसा में भाजपा कार्यकर्ता की हुई मौत को लेकर भाजपा नेता राहुल सिन्हा के नेतृत्व में एक प्रतिनिधि मंडल ने राज्यपाल जगदीप धनखड़ को ज्ञापन सौंपा है. इस मंडल में सांसद लॉकेट चटर्जी, जय प्रकाश मजूमदार और बिस्वप्रिया रॉय चौधरी शामिल थे.