Public Library
File Photo

    पुणे. पुणे महानगरपालिका (Pune Municipal Corporation) की ओर से राज्य की पहली सिटी लाइब्रेरी (First City Library) बनाई जाएगी। शिवाजी नगर (Shivaji Nagar) प्रभाग क्रमांक-14 में मामाराव दाते मुद्रणालय के जगह पर यह लाइब्रेरी (Library) बनेगी। इसके माध्यम से प्रतियोगिता परीक्षाओं में हिस्सा लेने वाले छात्रों को खासा फायदा होगा। साथ ही नागरिकों को भी इसका फायदा होगा। 

    स्थानीय नगरसेविका ज्योत्स्ना एकबोटे साथ ही मंत्री प्रकाश जावड़ेकर की संकल्पना से यह लाइब्रेरी बन रही है। इससे सम्बंधित 6 करोड़ के टेंडर (Tender)से सम्बंधित प्रस्ताव समिति के समक्ष रखा गया था। इस पर समिति की बैठक में चर्चा होकर इसे मंजूरी दी गई। ऐसी जानकारी समिति के अध्यक्ष हेमंत रासने ने दी। 

    छात्रों को होगा फायदा 

    गौरतलब है कि शिवाजीनगर चुनाव क्षेत्र को शैक्षणिक हब के नाम से जाना जाता है क्योंकि यहां पर कॉलेजेस, स्कूल्स और कई अंतर्राराष्ट्रीय शैक्षणिक संस्थाए हैं। देश-विदेश के छात्र यहां पर शिक्षा लेते है। साथ ही ये आज ज्यादा तर छात्र प्रतियोगिताओं की परीक्षाओं पर खासा ध्यान दे रहे है। इन छात्रों के के लिए आवश्यक एक जगह उपलब्ध कराके देने के लिए सिटी लाइब्रेरी की संकल्पना लाई है। इसमें प्रतियोगिता परीक्षा केंद्र, सराव करने के लिए जगह, साथ ही कई पठनीय किताबें भी इस लाइब्रेरी में रखी जाएगी। ताकि सभी नागरिकों को इसका फायदा हो। प्रभाग क्रमांक 14 में मामाराव दाते मुद्रणालय के जगह पर यह लाइब्रेरी साकार होगी। इसका फायदा छात्रों के साथ ही पुणेवासियों को होगा। हाल ही में इस जगह व इसकी संकल्पना का मनपा कमिश्नर ने अवलोकन किया था। 

    2 करोड़ मिलेंगे डीपीडीसी निधि से 

    स्थायी समिति के समक्ष रखे गए प्रस्ताव के अनुसार, लायब्रेरी के काम के लिए कुल 12 करोड़ की आवश्यकता है। उसमे से 2 करोड़ का निधि महानगरपालिका को जिला नियोजन समिति यानी डीपीडीसी के माध्यम से मिलेगा। सांसद और मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने इसमें अग्रणी भूमिका दिखाई है। शेष काम करने के लिए 10 करोड़ की आवश्यकता है। इसमें से 6 करोड़ के टेंडर से सम्बंधित प्रस्ताव स्थायी समिति के समक्ष रखा गया था। समिति ने इसे हाल ही में मंजूरी दी है। इस बारे में रासने ने कहा पुणे शिक्षा का घर है। शहर और राज्य में लाखों युवा विभिन्न प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कर रहे हैं। केंद्रीय सिविल सेवा परीक्षा, महाराष्ट्र लोक सेवा आयोग, कर्मचारी चयन, बैंकिंग परीक्षाओं के लिए अध्ययन करने वाले उम्मीदवारों को बड़ी मात्रा में संदर्भ सामग्री की आवश्यकता होती है। यह सामग्री यहां पारंपरिक पुस्तकालय पुस्तकों के रूप में और आधुनिक डिजिटल पुस्तकालय के रूप में उपलब्ध होगी। इसके लिए आधुनिक तकनीक का इस्तेमाल किया जाएगा। छात्रों के मार्गदर्शन के लिए सुसज्जित कक्षाएं उपलब्ध कराई जाएंगी। एक बार में एक हजार छात्र इस सुविधा का लाभ उठा सकते हैं। इन छात्रों को विशेषज्ञ और अनुभवी शिक्षकों द्वारा निर्देशित किया जाएगा। 

    केंद्रीय सिविल सेवा परीक्षा, महाराष्ट्र लोक सेवा आयोग, बैंकिंग परीक्षाओं के लिए अध्ययन करने वाले उम्मीदवारों को बड़ी मात्रा में संदर्भ सामग्री की आवश्यकता होती है। यह सामग्री लायब्रेरी में पारंपरिक पुस्तकालय पुस्तकों के रूप में और आधुनिक डिजिटल पुस्तकालय के रूप में उपलब्ध होगी। इसके लिए आधुनिक तकनीक का इस्तेमाल किया जाएगा। छात्रों के मार्गदर्शन के लिए सुसज्जित कक्षाएं उपलब्ध कराई जाएंगी।

    -हेमंत रासने, अध्यक्ष, स्थायी समिति

    राज्य के विभिन्न इलाके से छात्र शहर में स्पर्धा परीक्षाओं को देने के लिए पुणे आते है, लेकिन उन्हें सराव करने के लिए सस्ती लायब्रेरी नहीं मिलती। उस पर ज्यादा खर्चा होता है। मैं भी शिक्षा क्षेत्र में काम करती हूं। इसलिए सिटी लायब्रेरी की संकल्पना रखी थी। लगातार 3 साल से मैं फॉलोअप ले रही हूं। इस पर स्थायी समिति ने मुहर लगाने से इसका रास्ता साफ हो गया है।

    -ज्योत्स्ना एकबोटे, नगरसेविका