जानिये कैसे लोगों को दोस्त न बनाए, मिल सकता है धोखा 

    नई दिल्ली : हमे सारे रिश्ते नाते जन्म से ही मिलते है , पर दोस्ती यह एक ऐसा नाता होता है जो हम खुद चुनते है। सारे रिश्तों के अपने अलग मायने होते है , पर दोस्ती एक ऐसा रिश्ता होता है , जो सभी रिश्तों के मायने को पूरा करता है। दोस्त कभी मां बनकर समझाता है , तो कभी पापा बनकर डांटता है। कभी बहन बनकर सभी सीक्रेट छुपता है तो कभी भाई बनकर साथ में मस्ती करता है। ऐसे कई मायनों में दोस्त की भूमिका होती है।

    हर एक का कोई न कोई दोस्त जरूर होता है। दोस्त के बिना मानो जीवन अधूरा है , ऐसे में हमारे जीवन में एक अच्छा और बेहतर दोस्त होना बेहद जरूरी है। कई बार हम किसी को अच्छा दोस्त मानकर दोस्ती करते है ,लेकिन बाद में हमे दोस्ती में धोका मिलता है , या झगड़ा होता है। तो चलिए जानते है की किन लोगों को अपना दोस्त न बनाये या दोस्ती बनाते वक्त किन बातों पर ध्यान दे…….

    1. मतलबी लोगों को दोस्त न बनाएं

    दोस्तकुछ दोस्त ऐसे होते हैं जो सिर्फ मतलब पड़ने पर या काम पड़ने पर ही याद करते हैं। ऐसे लोगों को दोस्त बनाने से पहले सोच लीजिये क्या वाकई में आपको उससे दोस्ती करनी चाहिए ? दोस्ती एक ऐसा रिश्ता है झा कई मतलब नहीं होना चाहिए

    2. जलन करने वालों से रहें दूर

     आपने वो होते है जो हमारी सफलता में हमारे साथ होते है। हमारी ख़ुशी में शामिल होते है। लेकिन कई  दोस्त ऐसे होते है जो आपसे या आपकी तरक्की से जलते है, ऐसे लोग जो आपकी सफलता से जलते हों उन्हें दोस्त बनाने का कोई फायदा नहीं। ऐसे लोग ही कई बार नुकसान भी पहुंचा देते हैं।

    3. जो हमेशा आपका अपमान करे

    दोस्तों के बीच हंसी-मजाक होते रहते हैं लेकिन अगर कोई शख्स बात-बात पर आपको अपमानित करता है तो, वो आपका दोस्त नहीं हो सकता। दोस्तों का काम एक-दूसरे को सपोर्ट करना होता है न की एक-दूसरे को नीचा दिखाना।

    4. हर समय बिजी रहने वाला

    हम सभी के पास अपने जरूरी काम होते हैं लेकिन एक सच्चा दोस्त, जरूरत के समय साथ देने जरूर आता है। पर अगर वो शख्स आपकी जरूरत के समय भी अपने बिजी होने की बात कहकर नहीं आता है तो वो अच्छा दोस्त कैसे हो सकता है. जो दोस्त जरूरत के समय काम नहीं आए, वो अच्छा दोस्त कैसा , इसलिए ये बात दोस्ती करते वक्त ध्यान में रखे

    5. जो सिर्फ अपनी चलाते हों

    दोस्त ऐसे होने चाहिए जो आपका साथ दें। ऐसे नहीं जो बॉस की तरह व्यवहार करें। ऐसे लोगों को दोस्त बनाने में आपका ही नुकसान है। हमेशा रिश्ता ऐसा हो जहां दोनों को बात करने का मौका मिले लेकिन अगर एक ही अपनी बात बता रहा है या सुना रहा है और आपको बोलने का मौका नहीं दे रहा है तो ऐसी दोस्ती सच्चा है की आप अकेले रहे