File Photo
File Photo

    • तहसील के 29 हजार विद्यार्थियों को मिलेगा लाभ

    खामगांव. समग्र शिक्षा अभियान की ओर से विद्यार्थियों में नि:शुल्क पाठ्य पुस्तकों का वितरण किया जाता है. इन केंद्रों पर पाठ्य पुस्तकों को पहुंचाने के लिए पहली बार एस.टी. महामंडल को ठेका दिया गया है. तहसील के कुल 15 केंद्र पर 40 टन पुस्तकें पहुंचाई जा रही है. यह नि:शुल्क पाठ्य पुस्तकें 29 हजार विद्यार्थियों में वितरित की जाएगी. समग्र शिक्षा अभियान की ओर से हर साल कक्षा पहली से आठवीं के विद्यार्थियों में नि:शुल्क पाठ्य पुस्तकों का वितरण किया जाता है.

    जिसमें बालभारती, अमरावती से तहसील स्तर पर पुस्तकें उपलब्ध करावाई जाती हैं. बाद में इन्हें केंद्र स्तर पर निजी वाहन से पहुंचाया जाता है. लेकिन इस साल पहली बार पाठ्य पुस्तकों को ले जाने के लिए एस.टी. महामंडल को जिम्मेदारी दी गई हैं. कोरोना काल में यात्री यातायात करने वाली कुछ बसें माल यातायात ट्रक के तौर पर उपयोग में लाने की सुविधा शुरू की गयी है.

    शैक्षिणक सत्र 2021 – 22 इस साल के लिए तहसील के मराठी माध्यम के कुल 23 हजार 127 छात्र, उर्दू माध्यम के 323 तो हिंदी माध्यम के 6 हजार इस तरह कुल 29 हजार 450 विद्यार्थी लाभार्थी हैं. जिला परिषद विद्यार्थियों के स्कूलों में पुस्तकों के सेट रखे गए हैं.

    तहसील के ग्राम अटाली, बोथाकाजी, लाखनवाड़ा, पलशी, टेंभुर्णा, गोंधनापुर, गणेशपुर, हिवरखेड़, भालेगांव, निपाणा, पिंपलगांव राजा, रोहणा, सुटाला, खामगांव 1 एवं खामगांव 2 इन पंधरा केंद्र पर पुस्तकें पहुंचाई जाएगी. केंद्र स्तर से स्कूल पुस्तकें लेकर वहां विद्यार्थियों को पुस्तकों का वितरण करेंगे. कितबे पहुंचाने के लिए खामगांव डेपो की चार माल यातायात बसों का ठेका दिया गया है. जिसके माध्यम से 40 टन पुस्तकें चार दिनों में चार फेरियों में संबंधित केंद्र में पहुंचाई जाएंगी.

    सोमवार से इन समग्र शिक्षा अभियान के पाठय पुस्तकों का यातायात शुरू हुआ हैं. गट शिक्षणाधिकारी गजानन गायकवाड के मार्गदर्शन में समग्र शिक्षा अभियान के कर्मचारी किताब वितरण की जिम्मेदारी उठा रहे हैं. एसटी व्दारा पाठय पुस्तकों की यातायात करते समय गट शिक्षणाधिकारी गजानन गायकवाड, खामगांव डेपो के सहायक यातयात निरीक्षक जगन्नाथ बोरले समेत कर्मचारी एवं बस चालक उपस्थित थे.

    पुस्तकें पहुंचाने का खर्च 20 हजार रू.

    तहसील में नि:शुल्क पाठ्य पुस्तकें पहुंचाने के लिए डेपो की चार एस.टी. बसें उपलब्ध करवाई गई हैं. 40 टन पुस्तकें लेकर जाने के लिए 20 हजार रू. लिए जा रहे हैं. चार दिनों में केंद्र पर पुस्तकें पहुंचाई जाएगी. -आर.यु. पवार, स्थानक प्रमुख

    तहसील केंद्र स्तर पर जल्द ही पुस्तकें उपलब्ध होगी 

    नि:शुल्क पाठ्य पुस्तक योजना अंतर्गत तहसील के केंद्र स्तर पर चार दिनों में पुस्तकें पहुचाई जाएगी. एसटी महामंडल व्दारा परिवहन व्यवस्था की गई हैं, वहां से हर स्कूल में पुस्तकें लेकर जल्द ही छात्रों में  पुस्तकों का वितरण किया जाएगा.-गजानन गायकवाड़, गट शिक्षाधिकारी