ICC T20 World Cup

    -विनय कुमार 

    ICC ने आज दो टूक कहा  कि 2 साल का ‘T20 World Cup’, वर्ल्ड कप साइकल, क्रिकेट के विकास के लिए जरूरी है। क्योंकि, आईसीसी के सभी मेंबर्स (मेंबर देश ) T20 फॉर्मेट क्रिकेट खेलते हैं।

    गौरतलब है कि ICC ने पिछले हफ्ते 2024 से 2031 के बीच ICC Tournaments की घोषणा की, जिसके मुताबिक, हर साल एक टूर्नामेंट खेला जाएगा। ICC के CEO ज्योफ अलार्डिस (Geoff Allardice) ने प्रेस से अपनी बातचीत मेंं कहा, “अलग-अलग फॉर्मेट में ,(Test, ODI, T20) अलग-अलग टूर्नामेंट खेले जाने हैं। हर 2 साल में ‘T20 World Cup’ कराने का फैसला बढ़िया है, क्योंकि सभी मेंबर्स इस फॉर्मेट को खेलते हैं। और, यह फैसला क्रिकेट के विकास के लिए बढ़िया होगा।”

    ज्योफ अलार्डिस (Geoff Allardice) 

    ने कहा , “UAE और Oman में हाल ही में हुआ टूर्नामेंट (ICC T20 World Cup, 2021) बीते 5 साल में पहला था। इन दिनों इतना T20 क्रिकेट खेला जा रहा है और हमारे इतने मेंबर्स इस फॉर्मेट को खेल रहे हैं कि यह अंतराल लंबा था। हम 2 साल में एक बार इसे कराना चाहते हैं।” ‘ICC Champions Trophy’ को लेकर उन्होंने कहा, “यह बहुत ही लोकप्रिय टूर्नामेंट है। यह छोटा भी है और ODI फॉर्मेट में बहुत दिलचस्प भी। ‘ODI World Cup’ के 4 साल के चक्र के बीच में यह (T20 World Cup) बढ़िया टूर्नामेंट है।”

    ऑस्ट्रेलिया में टॉस नहीं होगा फैक्टर

    ICC Champions Trophy आखिरी बार 2017 में खेली गई थी। और अब 2025 में इसका आयोजन पाकिस्तान में किया जाएगा। गौरतलब है कि, हाल ही में समाप्त हुए ICC T20 WORLD CUP, 2021 में टॉस जीतकर गेंदबाजी चुनने वाली टीमें ही ज्यादातर जीतती आई। इस मामले में किए गए एक सवाल पर आईसीसी के सीईओ ज्योफ अलार्डिस ने कहा कि अगली बार ऐसा नहीं होगा। उन्होंने कहा, “क्रिकेट में ऐसा होता है कि जब कोई चीज़ चलन की तरह होने लगती है, तो टीमें और विरोधी उसका जवाब ढूंढने लगते हैं। यदि ऐसा लगता है कि टॉस जीतने से ही मुकाबले जीते जाते हैं, तो मुझे विश्वास है कि साल भर बाद  ऑस्ट्रेलिया (Australia) में जब यह टूर्नामेंट (ICC T20 World Cup) खेला जाएगा, तो ऐसा नहीं होगा।”

    अफगानिस्तान को मानना पड़ेगा ICC का नियम

    आपको याद दिला दें कि ICC ने अफगानिस्तान में हालिया राजनीतिक घटनाक्रम को देखते हुए पिछले हफ्ते समीक्षा के लिए एक कार्यसमूह का गठन किया है। ICC के अध्यक्ष ग्रेग बार्कले ने कहा, “अफगानिस्तान आईसीसी का परमानेंट मेंबर है। हम वहां महिला और पुरुष क्रिकेट कार्यक्रम को सहायता  जारी रखना चाहते हैं। और हम मदद करते रहेंगे। लेकिन, ICC का सदस्य बने रहने के लिए कुछ नियमों पर खरा उतरना आवश्यक है। हालांकि, हमने उनकी तरफ से नियमों का उल्लंघन नहीं देखा है।”