IPL

    -विनय कुमार 

    IPL T20 TOURNAMENT के अगले सीजन IPL 2022 में 8 की बजाय 10 टीम हिस्सा लेगी। BCCI ने दो दिन पहले, 25 अक्टूबर को 2 नई टीमों की नीलामी की और इसके अधिकार बेचे थे। इस ऑक्शन के दौरान जहां CVC Capital ने ‘अहमदाबाद टीम’ का मालिकाना अधिकार जीता, वहीं ‘राजीव गोयन्का ग्रुप’ ने ‘लखनऊ टीम’ (Lucknow Team) का मालिकाना हक जीता। RPCG Group ने करीब 7090 करोड़ रुपए में लखनऊ टीम खरीदी और CVC Capital ने 5625 करोड़ की बोली लगाकर ‘अहमदाबाद IPL टीम’ का मालिकाना अधिकार खरीद लिया।

    हालांकि, इस नीलामी में बोली लगने के सिर्फ एक दिन बाद ही CVC Capital को लेकर कुछ ऐसे खुलासे हुए हैं, जिसकी वजह से BCCI उसकी लगाई गई बोली और खरीदे गए अधिकार को रद्द कर सकता है। अगर, BCCI सीवीसी कैपिटल का आबंटन रद्द करता है, तो ‘अहमदाबाद टीम’ ‘ADANI GROUP’ के नाम हो जायेगी, जिसने ऑक्शन में 5100 करोड़ रुपए की दूसरी सबसे बड़ी बोली लगाई थी।

    Gambling Company में निवेश करने का CVC Capital पर आरोप

    खबरों के मुताबिक,  अहमदाबाद टीम खरीदने वाली CVC Capital ने भारी रकम बेटिंग कंपनियों में लगाई हैं। इस मामले की जानकारी BCCI को दी गई है। ऐसे में अगर BCCI इसके बावजूद  जानकारी मिलने के बाद भी ‘अहमदाबाद टीम’ CVC Capital के पास रहने देती है, तो यकीनन उसकी साख पर बट्टा लग जाएगा।

    रिपोर्ट के मुताबिक, CVC Capital एक प्राइवेट इक्विटी और इन्वेसमेंट एडवाइजरी फर्म (Investment Advisory Firm) है, जिसने कई कंपनियों में निवेश किया है। उन्होंने काफी निवेश गैंबलिंग कंपनियों में भी किए हैं। उन्होंने जर्मन गैम्बलिंग कम्पनी ‘Tipico’ में भारी रकम निवेश किया है। गौरतलब है कि, आईपीएल में CVC Capital ऐसी पहली कंपनी है, जिसका पूरा निवेश विदेशी है।

    ललित मोदी का BCCI पर वार

    इस मामले को लेकर जहां एक तरफ सोशल मीडिया पर हंगामा मच गया है, वहीं IPL के कॉन्सेप्ट लेकर आने वाले ललित मोदी (Lalit Modi) ने BCCI पर निशाना साधा है। वित्तीय  घोटाले के आरोप में देश से फरार आईपीएल के पूर्व कमिश्नर ललित मोदी जब भी मौका मिल जाए, BCCI पर तीखे तीर चलाने से बाज़ नहीं आते। ललित मोदी ने अपने ऑफिशल ट्विटर हैंडल पर व्यंग्य कसा और कहा, “अब लगता है कि अब बेटिंग कंपनियां की IPL की टीम खरीद सकती हैं। यह जरूर एक नियम होगा, जिसके अनुसार, जो भी IPL की टीम खरीदना चाहता है, वो Betting Company का मालिक भी हो सकता है। अब आगे क्या होगा ? क्या BCCI ने होमवर्क नहीं किया था ? ऐसे मामले में अब एंटी करप्शन क्या ऐक्शन लेगी ?”

    ‘ADANI GROUP’ को मिल सकती है ‘अहमदाबाद टीम’

    गौरतलब है कि अगर अब BCCI की तरफ से CVC Capital को बेची गई टीम रद्द करती है, तो यह टीम ‘ADANI GROUP’ के पास चली जाएगी। यकीनन, ‘Gambling Company’ में निवेश को लेकर CVC Capital की वजह से BCCI किसी तरह की कोट-कचहरी के मामले में नहीं फंसना चाहेगा, जैसा कि 2013 के स्पॉट फिक्सिंग स्कैंडल के दौरान देखा गया था। इस घटना की वजह से चेन्नई सुपर किंग्स (Chennai Super Kings CSK) और राजस्थान रॉयल्स (Rajasthan Royals RR) पर IPL 2016 और IPL 2017 के दौरान 2 साल का बैन भी लग गया था। अब, बड़ा सवाल ये पैदा होता है कि क्या BCCI ने बिना कंपनी का बैकग्राउंड चेक किए CVC Capital को नीलामी के लिए अनुमति दी। या, जानबूझकर ये पैंतरा अडानी ग्रुप के पक्ष में चले जाने की मंशा से की गई एक बनावटी लापरवाही थी?