File Pic
File Pic

    अकोला. यहां पर एसटी महामंडल के कर्मियों की हड़ताल अभी भी लगातार शुरू है. एसटी कर्मियों की हड़ताल समाप्त होने के कोई आसार दिखाई नहीं दे रहे हैं. आज भी अकोला के एसटी बस स्टैंड से बड़ी संख्या में यात्री निराश होकर वापस लौटे हैं. एसटी कर्मी बस स्टैंड पर एक ओर बैठकर लगातार आंदोलन कर रहे हैं. एसटी कर्मियों की हड़ताल के कारण यात्रियों की हालत खराब हो रही है क्योंकि कहीं भी आवागमन के लिए ट्रेन का रिजर्वेशन करवाना पड़ता है.

    इसी तरह या तो ट्रेन में रिजर्वेशन करवाकर यात्रा करनी पड़ रही है आज शहर में एसटी कर्मियों ने खामगांव के दिवंगत एसटी कर्मचारी के प्रति अपनी श्रद्धांजलि अर्पित की. इस अवसर पर बड़ी संख्या में एसटी कर्मचारी उपस्थित रहे. अनेक कर्मियों ने बातचीत के दौरान बताया कि अभी भी राज्य सरकार का ध्यान हम लोगों की मांग की तरफ नहीं जा रहा है. जबकि इस ओर तुरंत ध्यान दिया जाना चाहिए. 

    विष पीने वाले एसटी कर्मचारी की उपचार के दौरान हुई मौत

    यहां पर एक एसटी कर्मचारी विशाल अंबलकर (29) जो कि माटरगांव के रहनेवाले हैं, निलंबित किए जाने के डर से उन्होंने विष प्राशन कर लिया, उपचार के दौरान इस एसटी कर्मी की मौत हो गयी है. यह घटना 17 नवंबर की देर रात घटी. एसटी महामंडल का राज्य सरकार में विलीनीकरण किया जाये इस मांग को लेकर एसटी महामंडल के कर्मियों द्वारा हड़ताल शुरू की गयी है.

    इस हड़ताल में खामगांव एसटी डिपो के सभी कर्मचारी शामिल हुए. यहां पर कई एसटी कर्मियों को निलंबित किया गया. इस कारण अनेक कर्मियों को निलंबन का डर बना हुआ था. शायद इसी कारण से खामगांव एसटी डिपो में मैकेनिक के रूप में कार्यरत विशाल अंबलकर ने विष प्राशन कर लिया, उन्हें उपचार के लिए अकोला में दाखिल किया गया था, जहां पर उनकी मौत हो गयी है.