एटीएम की सुरक्षा को लेकर- बैंकों का, पुलिस को कोई जवाब नहीं

अकोला. शहर में विविध बैंकों के एटीएम हैं. लेकिन एटीएम के सामने सुरक्षा रक्षक तैनात न रहने से एटीएम की सुरक्षा किस के भरोसे है यह चिंता का विषय है. जिला पुलिस अधीक्षक जी. श्रीधर के निर्देश पर पुलिस विभाग ने विविध बैंकों को सुरक्षा रक्षत तैनात करने की सूचना की है. लेकिन देखा जा रहा है कि बैंकों द्वारा अब तक इस संदर्भ में कोई कदम उठाए नहीं गए हैं. ग्राहक के साथ नगद रकम की सुरक्षा का प्रश्न होने से इस पर सवाल उठाए जा रहे हैं.

लेकिन इस ओर संबंधित बैंक अधिकारियों द्वारा अनदेखी की जा रही है. इससे पूर्व बैंकों में पैसे निकालने वाले लोगों की कतारें देखी जाती थीं. परिणामस्वरूप, बैंक कर्मचारियों पर काम का तनाव बढ़ता जा रहा था. इसी तरह ग्राहकों को पैसे निकालने के लिए घंटों लाइन में खड़ा होना पड़ा. इस समस्या को दूर करने के लिए, विभिन्न बैंकों ने शहर की प्रमुख सड़कों पर एटीएम स्थापित किए हैं. इससे ग्राहकों को पैसे निकालने के लिए बैंक जाने की आवश्यकता समाप्त हो जाती है.

एटीएम कार्ड से पैसे निकालना सुविधाजनक हो गया. हालांकि एटीएम से पैसे निकालने से समय और श्रम की बचत होती है, लेकिन एटीएम से पैसे निकालने के बाद यदि कोई व्यक्ति पैसे ले लेता है तो कौन जिम्मेदार है? कई लोगों को व्यवसाय चलाने के लिए, घर या अचल संपत्ति खरीदने के लिए बड़ी रकम खर्च करनी पड़ती है. अगर कोई चोर किसी पर नजर रखता है, तो यह संबंधित ग्राहक, बैंक और पुलिस विभाग के लिए भी असुविधाजनक होगा.

ग्राहकों को परेशानी

शहर में विविध स्थानों पर कई बैंकों के एटीएम हैं. हालांकि, कभी-कभी इनमें से कुछ एटीएम मशीनों में नकदी उपलब्ध नहीं होती है और कभी-कभी मशीन दोषपूर्ण होती है. इसलिए ग्राहकों को एक एटीएम से दूसरे एटीएम भटकना पड़ता है. बैंक प्लानिंग की कमी के कारण ग्राहकों की परेशानी हो रही है. 

एटीएम के सामने सुरक्षा गार्ड की तैनाती के बारे में पुलिस विभाग ने विभिन्न बैंकों को लिखा है. हालांकि, बैंकों की ओर से कोई प्रतिक्रिया नहीं आई है. अगर बैंक सहयोग करते हैं, तो भविष्य में कोई अप्रिय घटना नहीं होगी.-जी.श्रीधर, पुलिस अधीक्षक, अकोला.