File Photo
File Photo

    • कुछ किसान कर रहे हैं मौसम ठीक होने का इंतजार

    अकोला. इस समय बहुत ही मंद गति से रबी की फसलों की बुआई शुरू है. लेकिन यह बुआई तेज गति नहीं पकड़ पा रही है. अत्यधिक बारिश के कारण खरीफ फसलों का भारी नुकसान हुआ है. कुछ किसानों का तो उत्पादन खर्च भी नहीं निकल पाया है. अब जबकि इस समय रबी की फसलों के लिए काफी अच्छी स्थिति है, जमीन में काफी अंदर तक नमी है, जिले के सभी जलप्रकल्प पूरी तरह से भरे हुए हैं. लेकिन फिर भी रबी की फसलों की बुआई की गति काफी मंद हैं. 

    मौसम ठीक होने का इंतजार

    रबी की फसलों की बुआई में जितनी तेज गति होनी चाहिए उतनी तेज नहीं है. इस बारे में स्थानीय किसान दीपेश तिवारी से बातचीत करने पर उन्होंने बताया कि पिछले कुछ दिनों से शुरू लगातार बदरीले मौसम के कारण किसान बुआई करने में थोड़ा घबरा रहे हैं. यदि बुआई करने के बाद कहीं तेज बारिश हो गयी तो काफी तकलीफ हो सकती है. शायद इसी कारण से बुआई में गति नहीं आ रही हैं. अनेक क्षेत्रों में गेहूं, चना तथा करड़ी की बुआई शुरू है. कुछ क्षेत्रों में करड़ी की बुआई पूरी हो चुकी है. इसी तरह सब्जी उत्पादक किसान खेतों की देखरेख में लगे हैं. पिछले कुछ दिनों से मौसम बिलकुल साफ नहीं है. कुछ क्षेत्रों में तो हल्की बारिश भी हो चुकी है. इसलिए किसान बुआई का रिस्क नहीं उठा रहे हैं. 

    बिजली की लाइन बंद है

    कुछ माह पूर्व नदी नालों में अत्यधिक बारिश के कारण बाढ़ आ गयी थी, जिससे कई जगह बिजली के पोल क्षतिग्रस्त हो गये थे, कहीं कहीं तो पोल गिरने की जानकारी भी है. इस कारण से सुकोड़ा, कान्हेरी, खड़की, टाकली, भोर, उगवा, सांगली मोहाड़ी आदि क्षेत्रों में किसान नदी में पम्प लगाकर सिंचाई नहीं कर पा रहे हैं. क्योंकि अभी तक बिजली के पोल खड़े कर के बिजली शुरू नहीं की गयी है. किसानों को इंतजार है बिजली शुरू होने का. इस कारण भी रबी की फसलों की बुआई जोर नहीं पकड़ रही है. महावितरण का काम है कि जहां जहां बिजली के पोल क्षतिग्रस्त हो गए हैं वहां पर तुरंत उन्हें खड़े कर के बिजली आपूर्ति शुरू की जाए. जिससे किसानों का सिंचाई का कार्य सुचारू रूप से चल सके. 

    रबी की फसलों के लिए अच्छी स्थिति

    इस बार अत्यधिक बारिश होने के कारण जिले के सभी क्षेत्रों में जमीन के अंदर तक काफी नमी है. रबी की फसलों के लिए यह नमी काफी लाभदायक है. इसी तरह इस बार जिले के करीब करीब सभी जलप्रकल्प शत प्रतिशत भरे हुए हैं, इस कारण अनेक किसानों को सिंचाई सुविधा का लाभ मिलेगा. उस अनुसार रबी की फसलों के लिए इस बार काफी अच्छी स्थिति दिखाई दे रही है.