Retired ASI's son shot dead in Delhi

    अकोला. चोरी की बढ़ती घटनाओं से जिले में दहशत का माहौल है. उन विभागीय पुलिस अधिकारी सचिन कदम ने मामले को संज्ञान में लिया है और विशेष दस्ते में अस्थायी रूप से चार कर्मियों को नियुक्त किया है. अब यह देखना दिलचस्प होगा कि क्या ये कर्मचारी भविष्य में वरिष्ठ अधिकारियों की अपेक्षा के अनुरूप काम करते हैं. क्योंकि इस समय दुपहिया वाहनों की चोरी भी बढ़ी है. चोरी व दोपहिया वाहन चोरी की रिपोर्ट जिले के थाने में दर्ज करायी गयी है. लेकिन स्थानीय पुलिस को चोरी की गाड़ी का पता नहीं चल रहा है.

    एसडीपीओ सचिन कदम ने इसे गंभीरता से लेते हुए जांच में विशेष भूमिका निभाने वाले कर्मचारियों की विशेष टीम को शामिल किया है. इनमें दो रामदासपेठ, एक सिविल लाइंस और एक खदान थाने का कर्मचारी शामिल है. थाने में कार्यरत डीबी दस्ते के कर्मचारी क्या करते हैं, ऐसा प्रश्न उपस्थित हो रहा है. थाने में दर्ज कराई गई शिकायत की जांच में डीबी स्टाफ विफल होता दिख रहा है.

    एसपी, एएसपी, एसडीपीओ ने बैठक में डीबी कर्मचारियों को शहर में चोरी रोकने के लिए जांच कर आरोपियों को पकड़ने का निर्देश दिया था. इसके लिए 31 जुलाई तक का समय दिया गया था. इसके बाद एसडीपीओ ने दो बैठकें की और डीबी कर्मचारियों के प्रदर्शन की समीक्षा की. वरिष्ठों के बार-बार निर्देश के बावजूद डीबी कर्मचारियों के काम में सुधार होता नहीं दिख रहा.