प्रतीकात्मक तस्वीर
प्रतीकात्मक तस्वीर

    लाखांदूर. धान खरिदी के लिए पिछले रबी में बगैर सिंचाई सुविधा सहित रबी धान बुआई नहीं करनेवाले किसानों को रबी धान बुआई के फर्जी 7/12 उपलब्ध किए गए थे. इस मामलें में सरांडी (बु) निवासी तुलाराम विठोले नामक व्यक्ती द्वारा मामलें की जिलाधिकारी से शिकायत कर कार्रवाई की मांग की गई थी. 

    जिसके अनुसार भंडारा के निवासी उपजिलाधिकारी द्वारा फर्जी 7/12 मामलें के जांच सहित पटवारी के खिलाफ कार्रवाई के निर्देश जारी किए गए है. उक्त निर्देश 3 नवंबर को जारी किए गए है. 

    प्राप्त जानकारी के अनुसार पिछले रबी में कृषी विभाग के रिपोर्ट तहसील के सरांडी (बु) में कुल 110 हेक्टेयर क्षेत्र में रबी धान फसल की बुआई की गई थी. किंतु स्थानीय पटवारी द्वारा इस गाव के लगभग 500 हेक्टेयर क्षेत्र में रबी धान बुआई होने के फर्जी 7/12  दिखाए जाने का आरोप शिकायत कर्ता व्यक्ति द्वारा किया गया था. 

    हालांकि शिकायत के अनुसार स्थानीय तहसीलदार द्वारा मंडल अधिकारी को मामलें की जांच के निर्देश दिए गए थे. जिसके अनुसार जांच के दौरान स्थानीय पटवारी द्वारा सिंचाई सुविधा एवं रबी धान फसल की बुआई नहीं किए किसानों को रबी धान बुआई के फर्जी 7/12 उपलब्ध किए जाने का मामला उजागर हुआ था. 

    इस आधार पर शिकायत कर्ता ने फर्जी 7/12 मामलें में भंडारा जिलाधिकारी से शिकायत के कर पटवारी के खिलाफ कार्रवाई की मांग की थी. जिसके अनुसार भंडारा के निवासी उपजिलाधिकारी द्वारा 3 नवंबर को साकोली के उपविभागीय अधिकारी से इस मामलें में अधिक जांच कर पटवारी के खिलाफ कार्रवाई के निर्देश जारी किए गए है.  हालांकि इस मामलें में उपविभागीय अधिकारी द्वारा किए जानेवाली कार्रवाई पर तहसील के नागरिकों की नजरे लगी है.