बाघ के पगमार्क से ढोलसर क्षेत्र में दहशत, वनविभाग द्वारा सतर्कता का आव्हान

    लाखांदूर. शिकार की खोज में अंतर जिलें के घने जंगल से भटके पट्टेदार बाघ के पगमार्क पाए जाने से तहसील के ढोलसर क्षेत्र में दहशत देखी जा रही है. हालांकि खेत क्षेत्र में पगमार्क पाए जाने पर स्थानीय लाखांदूर के वनविभाग द्वारा जंगली प्राणी व मनुष्य संघर्ष रोकने के लिए सतर्कता का आव्हान किया गया है.

    चरवाहों को नजर आए पगमार्क 

    प्राप्त जानकारी के अनुसार स्थानीय ढोलसर क्षेत्र के कुछ चरवाह मवेशियों के चराई के लिए ढोलसर खेत क्षेत्र गए थे. हालांकि 10 व 11 जनवरी को इस क्षेत्र में बारिश होने से खेत क्षेत्र में बाघ के पगमार्क पाए गए. इस दौरान चरवाहों ने उक्त पगमार्क के सबंध में ग्रामीनों सहित लाखांदूर वनविभाग को जानकारी दी.

    वनकर्मीयों ने की ढोलसर खेत क्षेत्र की गश्त 

    तहसील के ढोलसर खेत क्षेत्र में पट्टेदार बाघ के पगमार्क होने की जानकारी मिलते ही स्थानीय लाखांदूर के वनपरीक्षेत्र अधिकारी रुपेश गावित के मार्गदर्शन में क्षेत्र सहायक आय.जी. निर्वाण, वनरक्षक बी.एस. पाटील, जी.डी. हत्थे, राकेश मेश्राम, डी.एस. झोडे, वाहन चालक प्रफुल राऊत सहित अन्य वन कर्मियों ने ढोलसर खेत क्षेत्र पहुंचकर पगमार्क का परीक्षण किया. 

    इस दौरान वनकर्मीयों ने ढोलसर क्षेत्र के घरतोडा, खैरी, मासल सहित कुछ गावों में जनजागृती कर जंगली प्राणी व मानवी संघर्ष रोकने के लिए सतर्कता का आव्हान किया है.

    किसान, मजदुर व नागरिकों में दहशत 

    ढोलसर खेत क्षेत्र में बाघ के पगमार्क पाए जाने की जानकारी इस क्षेत्र के किसान, मजदुर एवं नागरिकों को होते ही सभी जनों में दहशत का माहौल देखा गया है. हालांकि किसान एवं मजदुरों द्वारा फिलहाल रबी के तहत विभिन्न खेतिकाम शुरु होने से यह दहशत होने की चर्चा है.