तहसील कार्यालय से जब्त टिप्पर की चोरी, टिप्पर मालिक के खिलाफ पुलिस में मामला दर्ज

    लाखांदूर. विगत 20 दिनों पूर्व रेत की ओवरलोड परिवहन मामले में राजस्व कर्मियों द्वारा जब्त किया गया टिप्पर चोरी करने की घटना हुई. उक्त घटना 18 जून को शाम 6 बजे के दौरान स्थानीय लाखांदूर तहसील कार्यालय के परिसर में घटित हुई. इस घटना में तहसील कार्यालय में उपस्थित तहसील के मांढल के कोटवार राजू सोनटक्के (30) की शिकायत पर विरली (बु) निवासी महेश लिंगम बलगमवार नामक टिप्पर मालिक के खिलाफ चोरी का मामला दर्ज किया गया है.

    रेत के ओवरलोड मामले में किया गया था टिप्पर जब्त 

    पुलिस सुत्रों के अनुसार विगत 24 मई को सुबह 11:30 बजे के दौरान स्थानीय लाखांदूर से मडेघाट मार्ग पर रेत की ओवरलोड परिवहन करते टिप्पर (क्र. एम.एच. 36 ए.ए. 2182) पकडा गया था. इस दौरान स्थानीय लाखांदूर के नायब तहसीलदार देवीदास पाथोडे ने रेत की ओवरलोड यातायात मामलें में पकडाया गया टिप्पर स्थानीय तहसील कार्यालय के परिसर में जमा कर जब्ती की कार्रवाई की थी. 

    हालांकि इस कार्रवाई के तहत स्थानीय राजस्व प्रशासन के तहत टिप्पर मालिक के खिलाफ जुर्माने की कार्रवाई शुरु किए जाने की जानकारी दी गई है.

    जुर्माने से बचने के लिए टिप्पर की चोरी 

    रेत की ओवरलोड यातायात मामलें में जब्त टिप्पर पर राजस्व प्रशासन के कार्रवाई के तहत लगभग लाखों रुपयों के जुर्माने की कार्रवाई शुरु की गई थी. जिससे बचने के लिए स्वयं टिप्पर मालिक ने घटना के दिन शाम के दौरान तहसील कार्यालय परिसर में घुंसकर जब्त टिप्पर की चोरी करने का आरोप लगाया गया है. 

    इस घटना में तहसील में उपस्थित कोटवार के शिकायत के आधार पर टिप्पर मालिक के खिलाफ चोरी का मामला दर्ज किया गया है. इस मामलें की आगे की जांच थानेदार रमाकांत कोकाटे के मार्गदर्शन में पुलिस उपनिरीक्षक संदीप ताराम व पुलिस अंमलदार मनिष चव्हाण कर रहे है.

    कोटवार के खिलाफ प्रशासनिक कार्रवाई की संभावना 

    बताया गया की टिप्पर चोरी के दिन शाम के दौरान स्थानीय लाखांदूर तहसील कार्यालय में मांढल के कोटवार की चौकीदारी पर ड्युटी लगाई गई थी. हालांकि शाम 6 बजे से कोटवार की ड्युटी लगाए जाने के बावजुद उक्त कोटवार तहसील कार्यालय में उपस्थित नहीं होने की चर्चा है. जिसका लाभ ऊठाकर स्वयं टिप्पर मालिक ने तहसील कार्यालय परिसर में जब्त टिप्पर के चोरी करने का आरोप लगाया गया है. 

    इस स्थिती में कोटवार के गैर मौजुदगी के कारण टिप्पर की चोरी होने का संदेह लेकर कोटवार के खिलाफ प्रशासनिक कार्रवाई की संभावना व्यक्त की जा रही है.