आप का रास्ता रोको आंदोलन, घुग्घुस शहर से कोयले के वाहनों का परिवहन बंद करने की मांग

    चंद्रपुर. आज गुरूवार 14 अक्टूबर को सुबह 11.30 बजे के दौरान घुग्घुस के राजीव रतन चौक में घुग्घुस आम आदमी पार्टी की ओर से घुग्घुस शहर से हो रहे कोयले के भारी वाहनों का परिवहन रोकने के लिए रास्ता रोको आंदोलन किया गया. एक घंटे यह आंदोलन किया गया.

    घुग्घुस शहर से दिनोंदिन कोयले के भारी वाहनों का परिवहन शुरू है. इसके चलते शहर में प्रदूषण में काफी तेजी से बढ रहा है. इसके चलते नागरिकों का स्वास्थ्य खतरे में है. घुग्घुस शहर के मुख्य मार्ग पर कोयले का परिवहन बड़े पैमाने पर हो  रहा है. इसके चलते शहर के नागरिकों को अलग अलग प्रकार की स्वास्थ्य समस्याओं का सामना करना पड़ रहा है. 4 अक्टूबर से स्कूलें शुरू हो गई है.इसके चलत छोटे छोटे बस्से रास्ता पार कर जाते है. इसके कारण दुर्घटना की संभावना बढ गई है.

    13 सितंबर 2021 को पुलिस स्टेशन घुग्घुस में भारी वाहनों का परिवहन बंद करने के लिए घुग्घुस आम आदमी पार्टी की ओर से निवेदन दिया गया था. परंतु आज तक इस पर कोई उपाययोजना नहीं की गई. इसके चलते गुरूवार 14 अक्टूबर 2021 को घुग्घुस आम आदमी पार्टी के शाहराध्यक्ष अमित बोरकर के नेतृत्व में घुग्घुस शहर से कोयले के भारी वाहनों का परिवहन बंद करने के लिए रास्ता रोको किया गया.

    शहर से कोयले का परिवहन सरेआम शुरू है. स्थानीय नगर परिषद प्रशासन का कोई ध्यान नहीं है. कोयले के परिवहन के लिए शहर के बाहर से जाने के लिए मार्ग है परंतु 02 किमी की दूरी बचाने के लिए शहर से परिवहन से किया जा रहा है. इसका निषेध कर आम आदमी पार्टी घुगघुस की ओर से रास्ता रोको आंदोलन किया गया. 

    ट्रक पर तिरपाल डाला जाए, ओवरलोड परिवहन बंद किया जाए,रास्ते पर दिन में कम से कम 4-5 बार पानी मारा जाए, रास्ते पर धूल प्रतिदिन साफ किया जाए, रास्ते पर गड्ढे बुझाये जाए. आदि मांगें रखी गई.

    इन मांगों को पूर्ण करने का आश्वासन पुलिस प्रशासन की ओर से दिया गया. यदि मांगें पूर्ण नहीं की गई तो इससे तीव्र आंदोलन किया जाएगा. साथ ही एक सप्ताह में इन समस्याओं का निवारण नहीं हुआ तो आम आदमी पार्टी की ओर से भूखहड़ताल की जाएगी.

    इस समय आम आदमी पार्टी के भिवराज सोनी, मयूर राईकवार, राजू कुडे, राजेश चेडगुलवार, अमित बोरकर, अभिषेक सपडी, सागर बिरहाडे, आशिष पाझारे, विकास खाडे, प्रशांत सेनानी, थिरूमालेश, निखिल बारसागडे, संदीप पथाडे, रवि शंतलावार, अभिषेक तालपेल्ली, रजत जुमडे, सोनू शेट्टीयार, करण बिरहाडे, धनराज भोंगले, दिनेश पिंपलकर, हंसराज नगराले, प्रशांत रामटेके, दीपक निपाने, पांडेजी आदि कार्यकर्ता उपस्थित थे.