sand smuggling
File Photo

चंद्रपुर: एक ओर रेत तस्करों के खिलाफ राजस्व विभाग ने कमर कसी है वही वनविभाग भी पीछे नहीं है. वनविभाग के अधिकारी एवं कर्मचारियों ने शनिवार 26दिसंबर को मिली गुप्त जानकारी के आधार पर आज शनिवार की दोपहर 12 बजे व्यूह रचना बनाकर आरक्षित वनक्षेत्र क्र.13 में बामणडोह नाले से रेत से भरा ट्रैक्टर पकड़कर जब्त किया गया.

गौण खनिज संपदा से परिपूर्ण वरोरा तहसील परिसर में रेत, गिट्टी और मुरूम इन गौण खनिज की दिनोंदिन लूट शुरू है. रेत घाट का निलामी ना होते हुए भी रेत घाट से रेत तस्करी का प्रमाण बढ गया है. राजस्व विभाग के उपरांत वन विभाग ने भी वन क्षेत्र के नालों से हो रही रेत तस्करी पर अंकुश लगाने का प्रयास शुरू किया है.

तहसील के सालोरी वनपरिक्षेत्र अंर्तत सुरला आरक्षित वनक्षेत्र क्र.13 में बामणडोह नाले में बड़े पैमाने पर रेती भंडार है. इस दौरान सूचना के आधार पर आज शनिवार को वनपरिक्षेत्र अधिकारी एम.पी.राठोड के मार्गदर्शन में  क्षेत्र सहायक विजय रामटेके, वनपाल दिनेश तुरारे, वनरक्षक विजय मुंढरे, वनरक्षक संजय डोर्लीकर, वनरक्षक संदीप वाटेकर के पथक से दोपहर में व्यूह रचना बनाकर घटनास्थल पर छापा मारा. इस समय ट्रैक्टर क्र.एमएच 32पी. 171 , एमएच 34 एल 5515 वाहन रेत भरी अवस्था में पाया गया.

ट्रैक्टर की दिशा में वन अधिकारियों एंव कर्मचरियों को आता देख चालक और मजदूर वहां से भाग निकल गए. इसके उपरांत उक्त ट्रैक्टर वनपरिक्षेत्र अधिकारी कार्यालय वरोरा में जब्त किया गया. उक्त ट्रैक्टर सुधाकर रामदास वरभे को बताया जा रहा है. इससे पूर्व भी यह ट्रैक्टर वनविभाग के क्षेत्र से रेत तस्करी करते हुए पकड़ा गया. तीन महीने बाद वनविभाग की यह दूसरी कार्रवाई है.