किसानों के चक्काजाम से 4 घंटे यातायात हुई ठप्प – आंदोलन में सैंकडो महिला, पुरूषों का सहभाग

  • आंदोलन अधिक तीव्र करने की चेतावनी

सिरोंचा: आदिवासी विभीन्न कार्यकारी महामंडल अंतर्गत धान खरीदी केंद्र पर प्रति एकड 20 क्विंटल धान खरीदी करे, इस मुख्य मांग को लेकर सरकार का ध्यानाकर्षण करने के लिए तहसील के नारायणपूर (कारसपल्ली) गांव के समिप सोमवार, 21 दिसंबर को किसानों ने चक्काजाम आंदोलन किया. आंदोलन के कारण करीब 4 घंटे सिरोंचा -अहेरी यह मार्ग मार्ग ठप्प हुआ था. इस आंदोलन में सैंकडों महिला, पुरूष किसानों ने सहभाग लेते हुए 3 दिनों के भितर इसका हल न निकालने पर तिव्र आंदोलन करने की चेतावनी दी है. 

इस वर्ष आविका महामंडले के खरीदी केंद्र पर 9 क्विंटल 60 किलो के तहत धान खरीदी करने के आदेश जारी किए गए है. इस आदेश के कारण तहसील के किसानों में रोष निर्माण हुआ था. एक एकड में करीब 25 से 30 क्विंटल धान का उत्पादन होता है, ऐसे में महामंडल के आदेश के तहत बाकी का धान कहां बेचे ऐसा सवाल किसानों के समक्ष निर्माण हुआ था. जिसे प्रति एकड 20 से 25 क्विंटल धान खरीदी करे, इस मांग को लेकर किसानों ने सोमवार को को नारायणपूर (कारसपल्ली) में अहेरी-सिरोंचा इस मुख्य मार्ग पर चक्काजाम आंदोलन किया.

इस समय किसानों ने सरकार के खिलाफ घोषणाबाजी करते हुए तत्काल समस्या हल करने की मांग की. इस चक्काजाम आंदोलन के कारण अहेरी -सिरोंचा मार्ग पर की यातायात करीब 4 घंटे ठप्प हुई थी. बतां दे कि, सोमवार को सिरोंचा में साप्ताहिक बाजार होने से तहसील मुख्यालय पर पहुचने की रेलचेल थी. मात्र चक्काजाम आंदोलन के कारण यातायात टैफीक जैम की समस्या निर्माण हुई थी. इस दौरान वाहनों की लंबी कतारे लगी गई थी. जिससे यात्रियों को व्यापक परेशानियों का सामना करना पडा. 

इस दौरान तहसीलदार अवकाश पर होने से प्रशासन की ओर से प्रतिनिधी के रूप मं मंडल अधिकारी मोरेश्वर बांडे, नारायणपूर के पटवारी शेरकी ने आंदोलनस्थल पर भेट देते हुए किसानों से चर्चा की. इस समय किसानों ने मंडल अधिकारी के मार्फत जिलाधिकारी तथा मुख्यमंत्री को ज्ञापन पेश किया. 3 दिनों के भितर समस्या पर कोई हल न निकालने पर आंदोलन तिव्र करने की चेतावनी दी है. 

महिला किसानों की व्यापक उपस्थिती

किसानों के आंदोलन में परिसर के सैंकडों किसान उपस्थित हुए थे. मात्र इस चक्काजाम आंदोलन में महिला किसान भी बडी मात्रा में उपस्थित थे. महिला किसानों ने आंदोलन में सहभागी होते हुए 20 क्विंटल एकड धान की खरीदी करे, ऐसी मांग करते हुए सरकार के खिलाफ घोषणाबाजी की. 

समर्थन में यात्री भी चले पैदल 

किसानों के चक्काजाम के कारण सिरोंचा-अहेरी इस मार्ग पर ट्रैफीक जामन की समस्या निर्माण हुई थी. इस दौरान वाहनों की लंबी से लंबी कतार लगी थी. सोमवार को शहर समित साप्ताहिक बाजार होने से तहसील के अनेक नागरिक मुख्यालय पर आते है. मात्र चक्काजाम आंदोलन से यात्रियों को अकारण परेशानियों का सामना करना पडा. मात्र इन यात्रियों ने भी किसान आंदोलन का समर्थन करते हुए बस से निचे उतरकर नारायणपूर से सिरोंचा यह 6 किमी तक की दुरी पैदल चलकर तय की.