दो मिनट की देरी हुई और छूट गई TET परीक्षा

    कोल्हापुर: रविवार को सुबह कोल्हापुर (Kolhapur) में शिक्षक पात्रता परीक्षा (TET Examination) ली जानेवाली थी। इस परीक्षा में सैकड़ों बेरोजगार (Unemployed) अपनी किस्मत आजमाने के लिए शामिल हुए हैं, लेकिन केवल दो मिनट की देरी (Late) से परीक्षा केंद्रों पर संचालको की मनमानी से इन परीक्षार्थियों (Examinees) को हताश होकर बिना परीक्षा दिए वापस लौट दिया गया। हुआ यूं कि महाराष्ट्र (Maharashtra) की तरह कोल्हापुर में भी महाराष्ट्र राज्य परिवहन निगम की हड़ताल (ST Strike) जारी है। ऐसे में शिक्षक पात्रता परीक्षा के लिए आनेवाले ग्रामीण परीक्षार्थियों की अड़चने बढ़ गई है। उन्हें कोल्हापुर शहर में स्थित सभी परीक्षा केंद्रों पर वक्त पर पहुंचने में काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ा। दिक्कतें उठाकर जब ये परीक्षार्थी केंद्र पर पहुंचे तो केंद्र संचालकों ने देरी से आने का कारण देकर उन्हें परीक्षा में बैठने के लिए ही नहीं, बल्कि केंद्र में प्रवेश करने से ही रोक दिया। इतनी दिक्कतें उठाकर जब परीक्षार्थियों का यह हाल हुआ तो सोशल मीडिया पर इस बात को काफी उछाला गया।

    जिला प्रशासन और जिम्मेदार व्यवस्था पर ताने कसे गए, लेकिन हताश होकर लौटने के बगैर इन किस्मत आजमाने वाले बेरोजगार युवाओं के सामने दूसरा कोई रास्ता नहीं था। पहले कोरोना से नौजवान परेशान थे और जब करियर बनाने के मौके मिल रहे हैं तो प्राशासनिक अड़चनों का सामना करना पड़ रहा है। क्या इनकी इस परेशानी को राज्य सरकार न्याय दिलाएगी ऐसा अहम सवाल सोशल मीडिया पर अब वायरल हो रहा है।

    देर से आए परीक्षार्थियों को प्रवेश देने के लिए असमर्थ 

    पूरे राज्य में टीईटी  परीक्षा आयोजित करने वाले राज्य परीक्षा परिषद के आयुक्त दत्तात्रय जगताप ने उनसे सम्पर्क करने पर कहा कि यह परीक्षा नौकरी संदर्भ की परीक्षा है और  उम्मीदवारों को परीक्षा केंद्रों पर समय पर पहुंचना बाध्यकारी है। इसलिए देरी से आए परीक्षार्थियों को प्रवेश देने में उन्होंने असमर्थता जताई।