Mumbai Vaccination Updates : Fake vaccination certificate gang busted in Mumbai amid rising Omicron cases in Maharashtra, police arrested two people
File Photo

    मुंबई: कोरोना (Corona) कमजोर क्या हुआ लोग अब निश्चिन्त हो गए हैं।  बीमारी से बचाव या फिर कहे तो सुरक्षा प्रदान करने वाली वैक्सीन (Vaccine) को प्राथमिकता देने के बजाय अपने में मस्त हैं।  स्वास्थ्य विभाग से प्राप्त जानकारी के अनुसार, राज्य में 75 लाख लोग ऐसे हैं जिन्होंने समय पूरा होने के बावजूद वैक्सीन की दूसरी डोज (Second Dose) नहीं ली है।  संबंधित अधिकारी लोगों तक पहुंच उन्हें समझाने और उनके घर के बगल ही टीकाकरण केंद्र (Vaccination Center) स्थापित कर वैक्सीनेट करने की मुहिम भी चला रहे हैं।                          कोविड से चल रही जंग में टीकाकरण ही जीत का सबसे बड़ा हथियार है, लेकिन राज्य के लाखों इन दिनों अपना दूसरा डोज लेने में आलस दिखा रहे हैं।  जिला स्तर पर उन लोगों की सूची बनाई जा रही है जिन्होंने वैक्सीन की पहली डोज तो ले ली है, लेकिन समय पूरा होने के बावजूद दूसरा डोज लेने नहीं आ रहे हैं। 

    हर मुमकिन प्रयास

    अपर स्वास्थ्य सचिव डॉ. प्रदीप व्यास ने बताया कि 59. 67 लाख लोगों ने कोविशिल्ड की और 15. 27 लाख लोगों ने कोवैक्सीन की दूसरी डोज मिस कर दी है।  राज्य में 90 लाख डोज उपलब्ध है ऐसे में हम हर मुमकिन प्रयास कर रहे हैं कि टीकाकरण को गति मिले। 

    मुंबई में 4.68 लाख ने मिस किया दूसरा डोज

    मुंबई जैसे शहर में जहां 18 से अधिक उम्र के 99 फीसदी लोगों का टीकाकरण हो चुका है, वहां भी कुछ ऐसे लोग हैं जो लापरवाही कर रहे हैं।  बीएमसी के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि मुंबई में 4.68 लाख लोग ऐसे हैं जिन्होंने वैक्सीन की सेकंड डोज मिस किया है। 

    कोविड केसेस कम होने के बाद लोगों में बीमारी का डर खत्म हो गया है, ऐसे में वे सोच रहे हैं कि एक डोज भी सुरक्षा प्रदान करने के लिए पर्याप्त है। यह धारणा गलत है लोगों को वैक्सीन की दोनों डोज लेनी चाहिए। त्योहार और छुट्टियों के चलते लोग टीकाकरण को प्राथमिकता देने के बजाय अन्य कामों में व्यस्त है। कुछ लोगों को पहला डोज लेने के बाद थोड़े साइड इफेक्ट आए, अब वे लोग दूसरा डोज लेने से कतरा रहे हैं, जो की सही नहीं है।

    -डॉ. सचिन देसाई, टीकाकरण अधिकारी, महाराष्ट्र

    इन जिलों में टीकाकरण कम

    राज्य में 6 जिलों के ग्रामीण क्षेत्र में टीकाकरण काफी कम हुआ है।   इसमें औरंगाबाद, हिंगोली, नांदेड़, अकोला, बुलढाणा और नंदुरबार का समावेश है।  सबसे कम औरंगाबाद में 46. 5 फीसदी, नंदुरबार में 46. 9 फीसदी, बुलढाणा में 47. 6 फीसदी, हिंगोली में 47.8 फीसदी , नांदेड़ में 48.4 फीसदी और अकोला में 49.3 फीसदी लोगों ने वैक्सीन का पहला डोज ली है। 

    पीएम मोदी ने मीटिंग

    पीएम नरेंद्र मोदी ने देश के 40 जिलों के डीएम के साथ बैठक की।  इस बैठक में उन जिले के अधिकारियों का समावेश है जहां टीकाकरण का ग्राफ काफी कम है।  इस बैठक में पीएम ने अधिकारियों को अपने जिलों में एक-एक गांव, एक-एक कस्बे के लिए अगर अलग-अलग रणनीति बनने का निर्देश दिया।  क्षेत्र के हिसाब से 20-25 लोगों की टीम बनाने का भी आईडिया दिया। जो टीमें बनाई हों, उनमें एक हेल्दी कॉम्पिटिशन हो, ताकि टीकाकरण को गति मिले ऐसा सुझाव भी दिया।  पीएम ने हर घर दस्तक का मंत्र दिया। 

    टीकाकरण के आंकड़े राज्य

    • कुल टीकाकरण- 99010521
    • पहला डोज- 67646845
    • दूसरा डोज- 31363676

    बुधवार को  केवल 210811 ने लिया डोज

    टीकाकरण के आंकड़े मुंबई

    • कुल टीकाकरण- 1,47,93,680
    • पहला डोज- 91,49,875
    • दूसरा डोज- 56,43,805

    बुधवार को केवल 29,831 ने लिया डोज

    4 से 7 नवंबर टीकाकरण बंद

    मुंबई में 4 नवंबर यानी गुरुवार से लेकर 7 नवंबर तक यानी कुल 4 दिनों तक महानगरपालिका और सरकारी टीकाकरण केंद्र बंद रहेंगे।  8 नवंबर से एक बार फिर टीकाकरण का कार्य शुरू किया जाएगा।  त्योहारों के चलते महानगरपालिका ने उक्त निर्णय लिया है।