Cow, Geeta and Gayatri were the keynote of India Governor Koshyari

  • गऊ भारत भारती का छठा वार्षिकोत्सव संपन्न

मुंबई. कई व्यक्ति और संगठन गायों (Cows) की सेवा और संरक्षण (Protection) के लिए काम कर रहे हैं और यह काम सराहनीय है. गंगा, गीता और गायत्री (Ganga, Geeta and Gayatri) भारत (India) का मूलमंत्र है. गौमाता के सम्मान की परंपरा है. गायों की सेवा करना भक्ति की भावना है और गौ भारत भारती गायों के संरक्षण और संवर्द्धन के लिए अच्छा काम कर रही है. यह एक सराहनीय बात है. 

यह उद्गार महाराष्ट्र के राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी ( Governor Bhagat Singh Koshyari) ने गऊ भारत भारती के छठे वार्षिकोत्सव पर आयोजित सर्वोत्तम सम्मान समारोह में बोलते हुए व्यक्त किये.

कोरोना संकट खत्म नहीं हुआ 

राज्यपाल ने कहा कि हम कोरोना जैसी महामारी से जूझ रहे हैं. कोरोना संकट खत्म नहीं हुआ है और अभी भी सावधानी बरतने की जरूरत है, अभी तक सभी भारतीयों ने कोरोना का सामना ठीक से किया है. कोश्यारी ने यह विश्वास भी जताया कि हम निश्चित रूप से कोरोना पर जीत हासिल करेंगे. राजभवन के बैंक्वेट हाल में सोमवार की शाम आयोजित इस समारोह में गौभारत भारती विशेषांक का विमोचन और कविताओं का संग्रह, जर्नी टू नो-थिंग’ का लोकार्पण भी किया गया. इस अवसर पर गऊ भारत भारती विशेष सम्मान अभिनेता सुरेश ओबेरॉय के लिए उनके पुत्र अभिनेता विवेक ओबेरॉय को दिया गया. साथ ही राजेश मेहता, एस. पी. सेन, शामराव बाबर, डॉ. नवनाथ दुधाल, अजय भट्टाचार्य, डॉ. बी.आर. कुमार अग्रवाल आदि को दिया गया. इसके अलावा संगीता तिवारी, विशाल भगत, प्रदीप जैन  सहित अन्य विभूतियों को प्रोत्साहन सम्मान दिया गया. विशेष साथ ही डॉ.खालिद शेख, डॉ. अजय साही, विजय केडिया को स्मृति चिन्ह और शॉल देकर सम्मानित किया गया. संजय अमान ने राज्यपाल को पुष्पगुच्छ, स्मृतिचिन्ह और शाल देकर सम्मानित किया. कोरोना योद्धा के रूप में जुबैर शेख, सरताज मेंहदी, सैय्यद मेंहदी, प्रेम कुमार को सम्मानित किया गया. समारोह संचालन प्रेम कुमार और राजेश विक्रांत ने आभार प्रदर्शन किया.