प्रतीकात्मक तस्वीर
प्रतीकात्मक तस्वीर

    – सूरज पांडेय 

    मुंबई : राज्य (State) में सभी स्कूलों को शुरू करने का परिपत्रक (Circular) (जीआर) जारी कर दिया गया है, लेकिन मुंबई में 1 दिसंबर (December) से स्कूल शुरू होना मुश्किल नजर आ रहा है। अधिकारियों की माने तो मंगलवार को महानगरपालिकाक कमिश्नर (Municipal Commissioner) निर्णय लेंगे की स्कूल (School) खुलेंगे या नहीं।

    जीआर के मुताबिक राज्य के ग्रामीण क्षेत्रों में पहली से पांचवीं और शहर में पहली से चौथी कक्षा को शुरू करने का आदेश जारी कर दिया गया है, लेकिन अंतिम निर्णय स्थानीय प्रशासन को लेने का जिम्मा सौंपा गया है। महानगरपालिका शिक्षा विभाग मंगलवार को महानगरपालिका कमिश्नर के समक्ष स्कूल शुरू करने का प्रस्ताव रखने वाले हैं, यदि प्रस्ताव मंजूर होता है तो भी 1 दिसंबर से स्कूल शुरू होना मुश्किल है। पहले तो जीआर लेट निकाला गया है, अब जब जीआर निकला है तो महानगरपालिका कमिश्नर  इसपर निर्णय लेंगे ऐसे में स्कूलों के पास बेहद कम समय है तैयारियों के लिए।

    एक वरिष्ठ शिक्षा अधिकारी ने बताया कि मुंबई में प्राथमिक स्कूल शुरू होना तो मुश्किल लग रहा है, लेकिन अनुमति मिल भी जाति है तो स्कूल शुरू करने में कम से कम 7 से 10 दिन लग जाएंगे। इस संदर्भ में महानगरपालिका शिक्षण अधिकारी राजू तड़वी ने कहा कि मंगलवार को कमिश्नर के समक्ष प्रस्ताव रखा जाएगा अब उनके द्वारा अंतिम निर्णय लिया जाएगा।  

    एमएमआर में स्कूल शुरू होने के चांस कम

    मौजूदा परिस्थितियों को देख कर एमएमआर रीजन में पहली से पांचवीं तक स्कूल शुरू होना मुश्किल है। हालांकि ग्रामीण क्षेत्रों में सभी कक्षाएं शुरू हो जाएंगी।

    - महेश पालकर, माध्यमिक शिक्षा संचालक

    मुंबई में 15 % शिक्षक का सेकंड डोज बाकी

    शिक्षा मंत्री वर्षा गायकवाड़ ने कहा कि स्कूल में शिक्षक और  गैर शिक्षक कर्मचारियों का 100 फीसदी टीकाकरण होना चाहिए, लेकिन मुंबई में अभी लगभग 15 फीसदी शिक्षक और गैर शिक्षक कर्मचारियों का टीकाकरण पूर्ण होना बाकी है। इसके अलावा सभी शिक्षकों की आरटीपीसीआर करने का आदेश भी दिया गया है। शिक्षकों को यह रिपोर्ट स्कूल में सबमिट करना होगा।