ट्रेन नंबर को लेकर यात्री हो रहे भ्रमित

    नागपुर. भले ही रेलवे ने एक बार फिर नियमित ट्रेनें चलाने का निर्णय लिया लेकिन कोरोना संक्रमण के दौरान शुरू की गईं स्पेशल ट्रेनों मे से कुछ के नंबर बदल दिए गए थे. इस बदलाव को 6 महीने का समय होने आ रहा है लेकिन मध्य रेल नागपुर मंडल के तहत अब भी कुछ ट्रेनेां पर लगी प्लेट पर पुराने की नंबर लिखे हुए हैं, जबकि यात्रियों की टिकट पर नया ट्रेन नंबर होता है. ऐसे में यात्रियों उलझन में पड़ जाते हैं.

    प्रेरणा और सेवाग्राम एक्स. पर पुराने नंबर 

    उल्लेखनीय है कि कोरोना की दूसरी लहर पर नियंत्रण के बाद रेलवे ने यात्री ट्रेनों की संख्या बढ़ाना शुरू कर दिया था. हालांकि तब भी इन्हें स्पेशल ट्रेनों के तौर पर ही चलाया जा रहा था. ऐसे में नागपुर और मुंबई के बीच चलने वाली सेवाग्राम एक्सप्रेस का नंबर 02139/40 से बदलकर 02169/70 कर दिया गया. इसी प्रकार नागपुर और मुंबई के बीच चलाने वाली सेवाग्राम एक्सप्रेस का नंबर 22138/37 से बदलकर 01138/37 कर दिया गया.

    हालांकि यह बदलाव केवल कम्प्यूटर में किया गया जबकि ट्रेनों पर लगी हुई प्लेट पर अब भी पुराना नंबर ही लिखा रहता है. ऐसे में अधिकांश यात्री ट्रेन सामने खड़ी होने के बाद भी उलझन में पड़ जाते हैं क्योंकि उनकी टिकट पर तो नया नंबर रहता है. उधर बदलावों के दौर से गुजर रही रेलवे में ट्रेनों के नंबर के कारण कई यात्री काफी देर तक सवार नहीं होते क्योंकि 2 प्रमुख स्टेशनों के बीच चलने वाली और भी ट्रेनें हैं. ऐसे में उन्हें हमेशा गलत ट्रेन में सवार होने का भय रहता है.

    नियमित होने पर हटेगा जीरो

    उल्लेखनीय है कि रेलवे ने स्पेशल ट्रेनों को नियमित करने का काम शुरू कर दिया है. इसके तहत अब ट्रेनों के नंबर की शुरुआत जीरो की बजाय ट्रेनों के क्लास, मंडल या जोन के कोड के आधार पर होगी. ऐसे में प्रेरणा और सेवाग्राम एक्सप्रेस के नंबरों में सिर्फ सामने से जीरो हटाकर 1 लगाया जाएगा. ऐसे में यात्रियों को भ्रम से बचाने के लिए ट्रेनों पर लगी प्लेट पर भी सटीक जानकारी देनी जरूरी है.