Mumbai Police
File Photo

    नागपुर. शहर पुलिस आयुक्त अमितेश कुमार के निर्देश पर नववर्ष की पूर्व रात्रि पर सिटी की सड़कों पर कड़ा बंदोबस्त दिखाई दिया. शुक्रवार रात करीब 8 बजे से ही प्रमुख चौराहों पर नाकाबंदी लगा दी गई और आने-जाने वाले वाहनों और वाहनचालकों की जांच होने लगी. इस दौरान जहां वाहन चालकों का ड्रंकन ड्राइव का टेस्ट किया तो वहीं, थ्री व्हीलर और चारपहिया वाहनों की डिक्की आदि की भी तलाशी ली गई.

    चूंकि जिला प्रशासन और सीपी अमितेश कुमार पहले ही डीजे बंदी और रात को बाहर निकालने का समय तय कर दिया गया था और इस बारे में उचित जानकारी भी विभिन्न माध्यमों से शहरवासियों तक पहुंचा दी गई थी. हालांकि रात 12 बजे तक मूवमेंट की अनुमति होने से रात 8 बजे तक सड़कों पर वाहनों की आवाजाही दिखती रही. 

    रात 9.00 बजे : बर्डी फ्लायओवर बंद

    पुलिस ने पहले ही प्लानिंग कर रखी थी. नाकाबंदी तेज कर दी गई. इसी के तहत रात 9 बजते ही बर्डी फ्लायओवर दोनों ओर से बंद कर दिया गया. दोनों छोर पर ही पुलिस की कडी नाकाबंदी थी. इसी तरह वर्धा रोड स्थित डबल डेकर ओवरब्रिज की एक लेन बंद कर दी गई थी.

    उधर, गश्ती वाहन से दूकानें, पानठेले आदि बंद करने का अनाउंसमेंट शुरू कर दिया. ऐसा नजारा शहर के सभी थानाक्षेत्रों में दिखाई दिया. पुलिस का गश्ती वाहन देखकर आनन-फानन में लोगों ने दूकानें बंद कर दी. हालांकि इस दौरान दवा की दूकानें और रात 12 बजे तक की अनुमति के चलते रेस्टारेंट खुले दिखाई दिये.  

    रात 10.30 बजे : CP ने स्वयं लिया जायजा

    उधर, रात को बंदोबस्त का जायजा लेने स्वयं शहर पुलिस आयुक्त अमिमेश कुमार सिटी की सड़कों पर उतरे. रात करीब 10.30 बजे सीताबर्डी चौक पहुंचे सीपी ने आने-जाने वाले वाहनचालकों को नये साल के जश्न में नशे से दूर रहने की हिदायत दी. वही, मौजूद अधिकारियों और पुलिसकर्मियों को सख्त हिदायत दी कि ड्रंकन ड्राइव में मिले किसी भी व्यक्ति से सख्ती से निपटा जाये.

    सीपी ने कहा कि करीब 2500 पुलिसकर्मी और अधिकारियों की तैनाती की गई है. हमारा मुख्य उद्देश्य जमावबंदी और ड्रंकन ड्राइव को रोकना है. इस दौरान सह आयुक्त अश्विती दोरजे, अपर पुलिस आयुक्त सुनील फुलारी, डीसीपी पंडित, डीसीपी आव्हाड, डीसीपी लोहित मतानी, पीआई सबनीस समेत अन्य सभी वरिष्ठ पुलिस अधिकारी मौजूद रहे. 

    11.30 बजे : कम होती गई वाहनों की आवाजाही

    चूंकि पुलिस और प्रशासन पहले ही रात 12 बजे की सीमा तय कर चुका था. साथ ही डीजे पार्टी पर रोक थी. ऐसे में सड़कों पर दिख रहे वाहनों में हुड़दंगियों वाला नजारा नहीं दिखा. हालांकि रात 11.30 बजे तक वाहनों ही आवाजाही नजर आई. इसके बाद सड़कों पर इनकी संख्या कम होती चली गई. उधर, रात 12 बजते ही लोगों ने पटाखों के साथ नये वर्ष की खुशी जताई.