Court
Representative Image

Loading

नागपुर. इमामवाड़ा थाना क्षेत्र में 12 वर्षीय बालिका के साथ दुष्कर्म करने वाले अपराधी को पोक्सो की विशेष अदालत के न्यायाधीश आर.पी. पांडे ने दोषी करार देते हुए आजीवन कारावास की सजा सुनाई है. 22 जुलाई 2016 को पुलिस ने पीड़ित बच्ची की मां की शिकायत पर रामबाग कॉलोनी निवासी नितीश उर्फ सूर्या अनिल जायसवाल (25) के खिलाफ मामला दर्ज किया था. 21 जुलाई की शाम सूर्या बहाने से पीड़िता को अपने साथ घुमाने ले गया. उसे टीबी वार्ड परिसर की झाड़ियों में ले जाकर दुष्कर्म किया.

बच्ची ने घर लौटकर मां को घटना की जानकारी दी, लेकिन वह सूर्या के बारे में नहीं जानती थी. ऐसे में आरोपी को पकड़ना पुलिस के लिए बड़ी चुनौती थी. घटना को लेकर स्थानीय नागरिकों में काफी नाराजगी थी. थाने में राजनीतिक पार्टियों के पदाधिकारियों के अलावा स्थानीय नागरिकों का हुजूम उमड़ पड़ा था. बच्ची द्वारा बताए गए हुलिये के अनुसार पुलिस ने स्केच तैयार किया. आसपास के इलाकों में सीसीटीवी कैमरों की फुटेज खंगाली गई और आखिर 2 दिन बाद सूर्या की गिरफ्तारी हुई.

सूर्या के खिलाफ और भी आपराधिक मामले दर्ज थे. तत्कालीन सब इंस्पेक्टर सोनाली पाटिल ने प्रकरण की जांच कर न्यायालय में आरोप पत्र दायर किया. सरकारी वकील आसावरी परसोड़कर आरोप सिद्ध करने में कामयाब हुई. न्यायालय ने सूर्या को दुष्कर्म की धारा 376 (2) के तहत दोषी करार देते हुए आजीवन सश्रम कारावास की सजा सुनाई. अपहरण के मामले में भी उसे दोषी करार दिया गया. बतौर पैरवी अधिकारी हेड कांस्टेबल मनीषा खोब्रागड़े और कल्पना मसराम ने अभियोजनपक्ष को सहयोग किया.